Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jan 2022 · 1 min read

अचार का स्वाद

खट्टा मीठा चटपटा,
खाने से मन बदला,
स्वाद बढ़ जाए अति भरपूर,
भोजन हो अचार से पूर्ण,
आम और नींबू का खट्टा अचार ,
लाल हरी मिर्च का तीखा अचार ,
गाजर गोभी अदरक का मिश्रित ,
फलों का बनता मीठा अचार ,
अचार कितना गुणकारी होता ,
पाचन तंत्र में भागीदारी होता ,
बड़े चाव से खाते सभी ,
सफर में भी ले जाते ,
छोटी-छोटी भूख मिटाते ,
परिवार संग आनंद उठाते ,
अचार होते हैं स्वादिष्ट ,
सबके मन का स्वाद बढ़ाते,
जो भी आचार है चखते ।

रचनाकार –
#बुद्ध प्रकाश मौदहा हमीरपुर ।

4 Likes · 2 Comments · 989 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-392💐
💐प्रेम कौतुक-392💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं तो महज इतिहास हूँ
मैं तो महज इतिहास हूँ
VINOD CHAUHAN
हृद् कामना ....
हृद् कामना ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
sushil sarna
वाराणसी की गलियां
वाराणसी की गलियां
PRATIK JANGID
मैं  नहीं   हो  सका,   आपका  आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम 💌💌💕♥️
प्रेम 💌💌💕♥️
डॉ० रोहित कौशिक
अनकहे अल्फाज़
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
फागुन का महीना आया
फागुन का महीना आया
Dr Manju Saini
गीत-3 (स्वामी विवेकानंद)
गीत-3 (स्वामी विवेकानंद)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संघर्ष से‌ लड़ती
संघर्ष से‌ लड़ती
Arti Bhadauria
⚘️🌾गीता के प्रति मेरी समझ🌱🌷
⚘️🌾गीता के प्रति मेरी समझ🌱🌷
Ms.Ankit Halke jha
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
मैं खुश हूँ! गौरवान्वित हूँ कि मुझे सच्चाई,अच्छाई और प्रकृति
विमला महरिया मौज
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ
gurudeenverma198
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
होंगे ही जीवन में संघर्ष विध्वंसक...!!!!
Jyoti Khari
*यह  ज़िंदगी  नही सरल है*
*यह ज़िंदगी नही सरल है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कुदरत
कुदरत
Neeraj Agarwal
3017.*पूर्णिका*
3017.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दशरथ मांझी होती हैं चीटियाँ
दशरथ मांझी होती हैं चीटियाँ
Dr MusafiR BaithA
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
मटका
मटका
Satish Srijan
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
Sampada
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
सुखिया मर गया सुख से
सुखिया मर गया सुख से
Shekhar Chandra Mitra
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
हमारा सब्र तो देखो
हमारा सब्र तो देखो
Surinder blackpen
अजीब सी चुभन है दिल में
अजीब सी चुभन है दिल में
हिमांशु Kulshrestha
Loading...