Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2023 · 1 min read

अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है

अचानक जब कभी मुझको हाँ तेरी याद आती है
मेरे चारों तरफ़ ख़ुश्बू गुलों की फैल जाती है

ज़माने हो गए तुझको नहीं देखा मगर फिर भी
सुबह हर रोज़ ख़्वाबों से तेरी पायल जगाती है

मेरी तक़दीर से मैं जब कभी गुस्से में रहता हूँ
मेरे कानों में नग़्मा-ए-सुकूँ तू गुनगुनाती है

मुझे मालूम है तू अब मेरी हो ही नहीं सकती
यहीं इक बात रह-रह के बहुत ज़्यादा रुलाती है

Johnny Ahmed क़ैस

193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
****तन्हाई मार गई****
****तन्हाई मार गई****
Kavita Chouhan
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
आर.एस. 'प्रीतम'
"आए हैं ऋतुराज"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"विकल्प रहित"
Dr. Kishan tandon kranti
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
Pooja Singh
आर-पार की साँसें
आर-पार की साँसें
Dr. Sunita Singh
चुनाव 2024....
चुनाव 2024....
Sanjay ' शून्य'
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम करें तो...
हम करें तो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वाह ! डायबिटीज हो गई (हास्य व्यंग्य)
वाह ! डायबिटीज हो गई (हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
एक पूरी सभ्यता बनाई है
एक पूरी सभ्यता बनाई है
Kunal Prashant
2877.*पूर्णिका*
2877.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
श्रीराम का पता
श्रीराम का पता
नन्दलाल सुथार "राही"
भ्रमन टोली ।
भ्रमन टोली ।
Nishant prakhar
क्या....
क्या....
हिमांशु Kulshrestha
#लघुकथा / #नक़ाब
#लघुकथा / #नक़ाब
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-329💐
💐प्रेम कौतुक-329💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ज़िन्दगी का सफ़र
ज़िन्दगी का सफ़र
Sidhartha Mishra
लटकते ताले
लटकते ताले
Kanchan Khanna
वह बचपन के दिन
वह बचपन के दिन
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
आज परी की वहन पल्लवी,पिंकू के घर आई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक दिन में इस कदर इस दुनिया में छा जाऊंगा,
एक दिन में इस कदर इस दुनिया में छा जाऊंगा,
कवि दीपक बवेजा
Dark Web and it's Potential Threats
Dark Web and it's Potential Threats
Shyam Sundar Subramanian
Loading...