Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2022 · 1 min read

अघोषित आपातकाल में

इस अंधेरे समय का प्रकाश बने!
यहां कौन है जो जयप्रकाश बने!!
आज पिंजरे में घुट रहे जो पंछी
उनके लिए खुला आकाश बने!!
#jayprakashnarayan #तानाशाही
#emergency #JPMovement
#आपातकाल #लोकतंत्र #लोक_नायक
#जुल्मतों_के_दौर_में #बगावत #सच

Language: Hindi
Tag: कविता
78 Views
You may also like:
🙏स्कंदमाता🙏
🙏स्कंदमाता🙏
पंकज कुमार कर्ण
सच वह देखे तो पसीना आ जाए
सच वह देखे तो पसीना आ जाए
कवि दीपक बवेजा
कबीर कला मंच
कबीर कला मंच
Shekhar Chandra Mitra
कहानी *सूनी माँग* पार्ट-1 - लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
कहानी *सूनी माँग* पार्ट-1 - लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
ruby kumari
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
योगी है जरूरी
योगी है जरूरी
Tarang Shukla
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
Manisha Manjari
उपदेश से तृप्त किया ।
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
"काँच"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ मुझको लिखा होता
कुछ मुझको लिखा होता
Dr fauzia Naseem shad
चित्र गुप्त पूजा
चित्र गुप्त पूजा
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"लक्की"
Dr Meenu Poonia
■ नज़्म (ख़ुदा करता कि तुमको)
■ नज़्म (ख़ुदा करता कि तुमको)
*Author प्रणय प्रभात*
जितना आवश्यक है बस उतना ही
जितना आवश्यक है बस उतना ही
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
जान लो पहचान लो
जान लो पहचान लो
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि’
किसी की याद आना
किसी की याद आना
श्याम सिंह बिष्ट
श्रृंगारिक दोहे
श्रृंगारिक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इंतजार है नया कैलेंडर (हास्य गीत)
इंतजार है नया कैलेंडर (हास्य गीत)
Ravi Prakash
चुप कर पगली तुम्हें तो प्यार हुआ है
चुप कर पगली तुम्हें तो प्यार हुआ है
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
शर्म
शर्म
परमार प्रकाश
जीवन के दिन थोड़े
जीवन के दिन थोड़े
Satish Srijan
हर घर तिरंगा
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
Writing Challenge- कला (Art)
Writing Challenge- कला (Art)
Sahityapedia
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हाथ मलना चाहिए था gazal by Vinit Singh Shayar
हाथ मलना चाहिए था gazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
बड़ा मुश्किल है ये लम्हे,पल और दिन गुजारना
'अशांत' शेखर
✍️हुए बेखबर ✍️
✍️हुए बेखबर ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
💐प्रेम कौतुक-159💐
💐प्रेम कौतुक-159💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शरद पूर्णिमा
शरद पूर्णिमा
अभिनव अदम्य
Loading...