Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2023 · 1 min read

अगे माई गे माई ( मगही कविता )

पाँच रुपेया के मकई आठ आना के नीमक,
पचास ग्राम तेल में जब निमने भुंजा जा हइ,
पॉपकॉर्न के नाम प दोना में भर के,
तीन सौ में बिका हइ,
हमरा त कपरे दुखा जा हइ,
अरे माई गे माई!
पाँच प्रकार के ड्रेस तीन प्रकार के जुता,
हज़ारों के किताब आ लाखों में फ़ीस,
बबूआ के इस्कूल से पढ़ाई के नाम प
लाखों के बिल महीने-महीने भेजा जा हइ,
हमरा त कपरे दुखा जा हइ,
अगे माई गे माई!
बूँद भर कमाई बाल्टी भर कर्जा,
मेहरी के लूगा बुतरुअन के लत्ता के खरचा,
दवे-दारू में तो सब कमाई ओरा जा हइ,
हमरा त कपरे दुखा जा हइ,
अगे माई गे माई!

Language: Bhojpuri
1 Like · 434 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
Dr Archana Gupta
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
रक्त से सीचा मातृभूमि उर,देकर अपनी जान।
Neelam Sharma
गल्तफ़हमी है की जहाँ सूना हो जाएगा,
गल्तफ़हमी है की जहाँ सूना हो जाएगा,
_सुलेखा.
देशभक्ति का राग सुनो
देशभक्ति का राग सुनो
Sandeep Pande
माफ़ कर दे कका
माफ़ कर दे कका
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मै तो हूं मद मस्त मौला
मै तो हूं मद मस्त मौला
नेताम आर सी
वसंत की बहार।
वसंत की बहार।
Anil Mishra Prahari
रार बढ़े तकरार हो,
रार बढ़े तकरार हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Live in Present
Live in Present
Satbir Singh Sidhu
वेलेंटाइन डे
वेलेंटाइन डे
Surinder blackpen
चिड़िया!
चिड़िया!
सेजल गोस्वामी
शिव - दीपक नीलपदम्
शिव - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्रेम पथ का एक रोड़ा✍️✍️
प्रेम पथ का एक रोड़ा✍️✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
Rj Anand Prajapati
3240.*पूर्णिका*
3240.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पातुक
पातुक
शांतिलाल सोनी
फलसफ़ा
फलसफ़ा
Atul "Krishn"
बहुत ऊँची नही होती है उड़ान दूसरों के आसमाँ की
बहुत ऊँची नही होती है उड़ान दूसरों के आसमाँ की
'अशांत' शेखर
*सब दल एक समान (हास्य दोहे)*
*सब दल एक समान (हास्य दोहे)*
Ravi Prakash
"कश्मकश"
Dr. Kishan tandon kranti
सैदखन यी मन उदास रहैय...
सैदखन यी मन उदास रहैय...
Ram Babu Mandal
रसीले आम
रसीले आम
नूरफातिमा खातून नूरी
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
पिछले 4 5 सालों से कुछ चीजें बिना बताए आ रही है
Paras Mishra
कुछ नहीं बचेगा
कुछ नहीं बचेगा
Akash Agam
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ख़ुद को यूं ही
ख़ुद को यूं ही
Dr fauzia Naseem shad
India is my national
India is my national
Rajan Sharma
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
Sanjay ' शून्य'
आता है उनको मजा क्या
आता है उनको मजा क्या
gurudeenverma198
Loading...