Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Aug 2016 · 1 min read

अगले जन्म की जमानत

रखे तू यादों में जिंदा ये इबादत है मेरी
यही यादें तेरे पास इक अमानत है मेरी
*****************************
ज़िंदा अल्फाजों में रहूँ या मै दिल में
यही अगले जन्म की जमानत है मेरी
*****************************
कपिल कुमार
25/08/2016

Language: Hindi
1 Like · 419 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दर्द को उसके
दर्द को उसके
Dr fauzia Naseem shad
ये सिलसिले ऐसे
ये सिलसिले ऐसे
Dr. Kishan tandon kranti
हृदय की बेचैनी
हृदय की बेचैनी
Anamika Tiwari 'annpurna '
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
Sumita Mundhra
*आओ चुपके से प्रभो, दो ऐसी सौगात (कुंडलिया)*
*आओ चुपके से प्रभो, दो ऐसी सौगात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
We become more honest and vocal when we are physically tired
We become more honest and vocal when we are physically tired
पूर्वार्थ
#पंचैती
#पंचैती
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*प्यार तो होगा*
*प्यार तो होगा*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कलियुगी रिश्ते!
कलियुगी रिश्ते!
Saransh Singh 'Priyam'
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
Shweta Soni
भजन- सपने में श्याम मेरे आया है
भजन- सपने में श्याम मेरे आया है
अरविंद भारद्वाज
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर  वार ।
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर वार ।
sushil sarna
सम्भाला था
सम्भाला था
भरत कुमार सोलंकी
3541.💐 *पूर्णिका* 💐
3541.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
Mahender Singh
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
माँ को फिक्र बेटे की,
माँ को फिक्र बेटे की,
Harminder Kaur
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
अरशद रसूल बदायूंनी
वो इश्क़ अपना छुपा रहा था
वो इश्क़ अपना छुपा रहा था
Monika Arora
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
समीक्षा ,कर्त्तव्य-बोध (कहानी संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---3. || विरोध-रस के आलंबन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
शेखर सिंह
लौट  आते  नहीं  अगर  बुलाने   के   बाद
लौट आते नहीं अगर बुलाने के बाद
Anil Mishra Prahari
यदि आपका चरित्र और कर्म श्रेष्ठ हैं, तो भविष्य आपका गुलाम हो
यदि आपका चरित्र और कर्म श्रेष्ठ हैं, तो भविष्य आपका गुलाम हो
Lokesh Sharma
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
ruby kumari
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
surenderpal vaidya
!! दिल के कोने में !!
!! दिल के कोने में !!
Chunnu Lal Gupta
रुख़्सत
रुख़्सत
Shyam Sundar Subramanian
Loading...