Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 25, 2016 · 1 min read

अगले जन्म की जमानत

रखे तू यादों में जिंदा ये इबादत है मेरी
यही यादें तेरे पास इक अमानत है मेरी
*****************************
ज़िंदा अल्फाजों में रहूँ या मै दिल में
यही अगले जन्म की जमानत है मेरी
*****************************
कपिल कुमार
25/08/2016

1 Like · 277 Views
You may also like:
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Neha Sharma
पिता
Santoshi devi
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
*"पिता"*
Shashi kala vyas
संघर्ष
Arjun Chauhan
Loading...