Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2024 · 1 min read

अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर

अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर एक अच्छा जूता पहनकर चला जा सकता है मगर जूते के अन्दर एक भी कंकड़ हो तो कुछ कदम भी चलना मुश्किल हो जाता है। इसलिए जीवन में बाहर की चुनौतियों से घबराये बिना अपनी अन्दर की कमज़ोरी को दूर करें ।।
✍️ लोकेश शर्मा

92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सतत् प्रयासों से करें,
सतत् प्रयासों से करें,
sushil sarna
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
Dr fauzia Naseem shad
*वो खफ़ा  हम  से इस कदर*
*वो खफ़ा हम से इस कदर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
रात भर नींद भी नहीं आई
रात भर नींद भी नहीं आई
Shweta Soni
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Harminder Kaur
तू सहारा बन
तू सहारा बन
Bodhisatva kastooriya
विधवा
विधवा
Acharya Rama Nand Mandal
"डिजिटल दुनिया! खो गए हैं हम.. इस डिजिटल दुनिया के मोह में,
पूर्वार्थ
किन्तु क्या संयोग ऐसा; आज तक मन मिल न पाया?
किन्तु क्या संयोग ऐसा; आज तक मन मिल न पाया?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आलेख - मित्रता की नींव
आलेख - मित्रता की नींव
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
Dheerja Sharma
गर जानना चाहते हो
गर जानना चाहते हो
SATPAL CHAUHAN
कभी ना होना तू निराश, कभी ना होना तू उदास
कभी ना होना तू निराश, कभी ना होना तू उदास
gurudeenverma198
हिंदी का सम्मान
हिंदी का सम्मान
Arti Bhadauria
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
We can rock together!!
We can rock together!!
Rachana
काश तुम मेरी जिंदगी में होते
काश तुम मेरी जिंदगी में होते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरा चाँद न आया...
मेरा चाँद न आया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
रिश्ता ये प्यार का
रिश्ता ये प्यार का
Mamta Rani
मैं पढ़ता हूं
मैं पढ़ता हूं
डॉ० रोहित कौशिक
*शादी को जब हो गए, पूरे वर्ष पचास*(हास्य कुंडलिया )
*शादी को जब हो गए, पूरे वर्ष पचास*(हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
■ सियासी ग़ज़ल
■ सियासी ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
ज्यादा अच्छा होना भी गुनाह है
ज्यादा अच्छा होना भी गुनाह है
Jogendar singh
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
आकाश महेशपुरी
रमेशराज के देशभक्ति के बालगीत
रमेशराज के देशभक्ति के बालगीत
कवि रमेशराज
पल्लवित प्रेम
पल्लवित प्रेम
Er.Navaneet R Shandily
Loading...