Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Nov 2023 · 1 min read

अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें

अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
आप क्यों परेशान होते हैं उनकी समझ से
यदि उनकी समझ उनको भी साहस देता
तो वो भी मुँह पर सच कहते और
आपकी तरह rude होते
नीम होते करेले होते
मीठा गरल न होते

1 Like · 241 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
गुप्तरत्न
अब ये ना पूछना कि,
अब ये ना पूछना कि,
शेखर सिंह
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
रमेशराज के वर्णिक छंद में मुक्तक
कवि रमेशराज
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
Anand Kumar
*चार दिन की जिंदगी में ,कौन-सा दिन चल रहा ? (गीत)*
*चार दिन की जिंदगी में ,कौन-सा दिन चल रहा ? (गीत)*
Ravi Prakash
बेटियां
बेटियां
Ram Krishan Rastogi
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ये आज़ादी होती है क्या
ये आज़ादी होती है क्या
Paras Nath Jha
सावन बरसता है उधर....
सावन बरसता है उधर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
अनुभूत सत्य .....
अनुभूत सत्य .....
विमला महरिया मौज
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कविता
कविता
Neelam Sharma
मिसाल
मिसाल
Kanchan Khanna
*लू के भभूत*
*लू के भभूत*
Santosh kumar Miri
फूल,पत्ते, तृण, ताल, सबकुछ निखरा है
फूल,पत्ते, तृण, ताल, सबकुछ निखरा है
Anil Mishra Prahari
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
20, 🌻बसन्त पंचमी🌻
Dr Shweta sood
तुमको खोकर
तुमको खोकर
Dr fauzia Naseem shad
काश ! ! !
काश ! ! !
Shaily
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
कैसा कोलाहल यह जारी है....?
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
विकास
विकास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ शारदे
माँ शारदे
Bodhisatva kastooriya
ख्वाब आँखों में सजा कर,
ख्वाब आँखों में सजा कर,
लक्ष्मी सिंह
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
"अहसास मरता नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
"प्यासा" "के गजल"
Vijay kumar Pandey
आदमी की गाथा
आदमी की गाथा
कृष्ण मलिक अम्बाला
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...