Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2024 · 1 min read

अगर पुरुष नारी में अपनी प्रेमिका न ढूंढे और उसके शरीर की चाह

अगर पुरुष नारी में अपनी प्रेमिका न ढूंढे और उसके शरीर की चाहत न रखे तो नारी से अच्छा कोई मित्र नहीं हो सकता ।

28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पैमाना सत्य का होता है यारों
पैमाना सत्य का होता है यारों
प्रेमदास वसु सुरेखा
"In the tranquil embrace of the night,
Manisha Manjari
डर एवं डगर
डर एवं डगर
Astuti Kumari
प्रेम अब खंडित रहेगा।
प्रेम अब खंडित रहेगा।
Shubham Anand Manmeet
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
Sanjay ' शून्य'
नज़्म - चांद हथेली में
नज़्म - चांद हथेली में
Awadhesh Singh
अबोध प्रेम
अबोध प्रेम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
है आँखों में कुछ नमी सी
है आँखों में कुछ नमी सी
हिमांशु Kulshrestha
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
तोड़ डालो ये परम्परा
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD CHAUHAN
मंजिलें
मंजिलें
Santosh Shrivastava
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
फ़िलिस्तीन-इज़राइल संघर्ष: इसकी वर्तमान स्थिति और भविष्य में शांति और संप्रभुता पर वैश्विक प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
तुम सबने बड़े-बड़े सपने देखे थे, धूमिल हो गए न ... कभी कभी म
तुम सबने बड़े-बड़े सपने देखे थे, धूमिल हो गए न ... कभी कभी म
पूर्वार्थ
शादीशुदा🤵👇
शादीशुदा🤵👇
डॉ० रोहित कौशिक
■ कौन बताएगा...?
■ कौन बताएगा...?
*प्रणय प्रभात*
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
बेटा
बेटा
अनिल "आदर्श"
"प्यास"
Dr. Kishan tandon kranti
"दहलीज"
Ekta chitrangini
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
3183.*पूर्णिका*
3183.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
गुप्तरत्न
ताजन हजार
ताजन हजार
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"" *हे अनंत रूप श्रीकृष्ण* ""
सुनीलानंद महंत
जान हो तुम ...
जान हो तुम ...
SURYA PRAKASH SHARMA
मै हिन्दी का शब्द हूं, तू गणित का सवाल प्रिये.
मै हिन्दी का शब्द हूं, तू गणित का सवाल प्रिये.
Vishal babu (vishu)
नीलेश
नीलेश
Dhriti Mishra
हां मैं दोगला...!
हां मैं दोगला...!
भवेश
*रोटी उतनी लीजिए, थाली में श्रीमान (कुंडलिया)*
*रोटी उतनी लीजिए, थाली में श्रीमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
इंसान
इंसान
Bodhisatva kastooriya
Loading...