Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

अगर तेरी बसारत में सिर्फ एक खिलौना ये अवाम है

अगर तेरी बसारत में सिर्फ एक खिलौना ये अवाम है
तो ये साहिब-ए-मसनद का किससे हासिल मक़ाम है ?

किस ज़ालिम के सर पे देर तक ताज बरक़रार रहता..
जितनों की मस्ती,हस्ती मिटी जनता का ही अंजाम है

⚪️ ‘अशांत’ शेखर
07/02/2023

212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
रम्भा की मी टू
रम्भा की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
Manisha Manjari
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
*आए लंका जीत कर, नगर अयोध्या-धाम(कुंडलिया)*
*आए लंका जीत कर, नगर अयोध्या-धाम(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"भाभी की चूड़ियाँ"
Ekta chitrangini
कांटा
कांटा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मोनू बंदर का बदला
मोनू बंदर का बदला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2756. *पूर्णिका*
2756. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
👣चरण, 🦶पग,पांव🦵 पंजा 🐾
👣चरण, 🦶पग,पांव🦵 पंजा 🐾
डॉ० रोहित कौशिक
कभी सुलगता है, कभी उलझता  है
कभी सुलगता है, कभी उलझता है
Anil Mishra Prahari
सुबह की एक कप चाय,
सुबह की एक कप चाय,
Neerja Sharma
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
सीपी में रेत के भावुक कणों ने प्रवेश किया
ruby kumari
कोरे पन्ने
कोरे पन्ने
Dr. Seema Varma
गजब है उनकी सादगी
गजब है उनकी सादगी
sushil sarna
प्रभु नृसिंह जी
प्रभु नृसिंह जी
Anil chobisa
फादर्स डे ( Father's Day )
फादर्स डे ( Father's Day )
Atul "Krishn"
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
कवि रमेशराज
त्यौहार
त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
मुझे ना छेड़ अभी गर्दिशे -ज़माने तू
मुझे ना छेड़ अभी गर्दिशे -ज़माने तू
shabina. Naaz
■ लघुकथा....
■ लघुकथा....
*Author प्रणय प्रभात*
गई नहीं तेरी याद, दिल से अभी तक
गई नहीं तेरी याद, दिल से अभी तक
gurudeenverma198
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
की हरी नाम में सब कुछ समाया ,ओ बंदे तो बाहर क्या देखने गया,
Vandna thakur
मेरी कानपुर से नई दिल्ली की यात्रा का वृतान्त:-
मेरी कानपुर से नई दिल्ली की यात्रा का वृतान्त:-
Adarsh Awasthi
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
हंसें और हंसाएँ
हंसें और हंसाएँ
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
शेखर सिंह
गुम है
गुम है
Punam Pande
Loading...