Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

“अगर तू अपना है तो एक एहसान कर दे

“अगर तू अपना है तो एक एहसान कर दे
मेरे साथ बैठ और सुबह को शाम कर दे!”

Deepak saral

2 Likes · 2 Comments · 291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
21 उम्र ढ़ल गई
21 उम्र ढ़ल गई
Dr Shweta sood
निकला वीर पहाड़ चीर💐
निकला वीर पहाड़ चीर💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"बिना पहचान के"
Dr. Kishan tandon kranti
पिछले पन्ने 3
पिछले पन्ने 3
Paras Nath Jha
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
यहाँ श्रीराम लक्ष्मण को, कभी दशरथ खिलाते थे।
जगदीश शर्मा सहज
एक रावण है अशिक्षा का
एक रावण है अशिक्षा का
Seema Verma
लौट  आते  नहीं  अगर  बुलाने   के   बाद
लौट आते नहीं अगर बुलाने के बाद
Anil Mishra Prahari
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Sakshi Tripathi
' नये कदम विश्वास के '
' नये कदम विश्वास के '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
*कृष्ण की दीवानी*
*कृष्ण की दीवानी*
Shashi kala vyas
श्रम कम होने न देना _
श्रम कम होने न देना _
Rajesh vyas
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
Shweta Soni
कलियुगी रिश्ते!
कलियुगी रिश्ते!
Saransh Singh 'Priyam'
जीवन एक मकान किराए को,
जीवन एक मकान किराए को,
Bodhisatva kastooriya
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
नैतिक मूल्यों को बचाए अब कौन
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
Shakil Alam
बेटियां
बेटियां
Madhavi Srivastava
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
सूरज मेरी उम्मीद का फिर से उभर गया........
shabina. Naaz
शब्द यदि हर अर्थ का, पर्याय होता जायेगा
शब्द यदि हर अर्थ का, पर्याय होता जायेगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
जिंदगी कुछ और है, हम समझे कुछ और ।
sushil sarna
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
dks.lhp
2956.*पूर्णिका*
2956.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आधुनिक परिवेश में वर्तमान सामाजिक जीवन
आधुनिक परिवेश में वर्तमान सामाजिक जीवन
Shyam Sundar Subramanian
#प्रेरक_प्रसंग
#प्रेरक_प्रसंग
*Author प्रणय प्रभात*
// लो फागुन आई होली आया //
// लो फागुन आई होली आया //
Surya Barman
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
मेरी  हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
मेरी हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
★ IPS KAMAL THAKUR ★
💐अज्ञात के प्रति-145💐
💐अज्ञात के प्रति-145💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माँ...की यादें...।
माँ...की यादें...।
Awadhesh Kumar Singh
Loading...