Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

अगर, आप सही है

अगर, आप सही है
और दुनिया को सिर्फ ये बात
सिद्ध करने के लिए
बहस कर रहे है तो आप
अपना कीमती समय
बर्बाद कर रहे है।
क्योंकि आप स्वयं को
समझा सकते हो
दूसरों को नही।
दूसरों को समझाने का अर्थ
अपने समय को
निर्थरक करना है।

1 Like · 148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रिश्तों का गणित
रिश्तों का गणित
Madhavi Srivastava
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
गज़ल सी रचना
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मातृभाषा
मातृभाषा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रास्ते और राह ही तो होते है
रास्ते और राह ही तो होते है
Neeraj Agarwal
SCHOOL..
SCHOOL..
Shubham Pandey (S P)
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
Ravi Prakash
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
आँखों में ख्व़ाब होना , होता बुरा नहीं।।
Godambari Negi
हुकुम की नई हिदायत है
हुकुम की नई हिदायत है
Ajay Mishra
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
Otteri Selvakumar
*******खुशी*********
*******खुशी*********
Dr. Vaishali Verma
किसी के दर्द
किसी के दर्द
Dr fauzia Naseem shad
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
जिंदगी का मुसाफ़िर
जिंदगी का मुसाफ़िर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
किसका चौकीदार?
किसका चौकीदार?
Shekhar Chandra Mitra
कंक्रीट के गुलशन में
कंक्रीट के गुलशन में
Satish Srijan
*धन्यवाद*
*धन्यवाद*
Shashi kala vyas
जिन्दा रहे यह प्यार- सौहार्द, अपने हिंदुस्तान में
जिन्दा रहे यह प्यार- सौहार्द, अपने हिंदुस्तान में
gurudeenverma198
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
Dr.Rashmi Mishra
मित्र भेस में आजकल,
मित्र भेस में आजकल,
sushil sarna
2384.पूर्णिका
2384.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सूर्यदेव
सूर्यदेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
Sampada
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
शोर जब-जब उठा इस हृदय में प्रिये !
Arvind trivedi
मजबूरी
मजबूरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मस्ती का त्योहार है होली
मस्ती का त्योहार है होली
कवि रमेशराज
तू सरिता मै सागर हूँ
तू सरिता मै सागर हूँ
Satya Prakash Sharma
"विचारणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...