Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2023 · 1 min read

अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह

अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नही बना पा रहे है तो आप कितने भी प्रगतिशील दिखने की कोशिश क्यों ना कर ले फिर भी आप मानसिक तौर पर पिछड़े ही रहेंगे।

194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shashi Dhar Kumar
View all
You may also like:
विचार मंच भाग -8
विचार मंच भाग -8
डॉ० रोहित कौशिक
एक तिरंगा मुझको ला दो
एक तिरंगा मुझको ला दो
लक्ष्मी सिंह
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
💐प्रेम कौतुक-479💐
💐प्रेम कौतुक-479💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*हुस्न से विदाई*
*हुस्न से विदाई*
Dushyant Kumar
समस्या
समस्या
Neeraj Agarwal
मां गंगा ऐसा वर दे
मां गंगा ऐसा वर दे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Saso ke dayre khuch is kadar simat kr rah gye
Saso ke dayre khuch is kadar simat kr rah gye
Sakshi Tripathi
"जांबाज़"
Dr. Kishan tandon kranti
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
Subhash Singhai
★किसान ★
★किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
2804. *पूर्णिका*
2804. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर को उनकी पुण्यतिथि पर शत शत नमन्।
Anand Kumar
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
टमाटर का जलवा ( हास्य -रचना )
Dr. Harvinder Singh Bakshi
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना
gurudeenverma198
कितना भी  कर लो जतन
कितना भी कर लो जतन
Paras Nath Jha
वो दिन भी क्या दिन थे
वो दिन भी क्या दिन थे
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
जिंदगी की बेसबब रफ्तार में।
जिंदगी की बेसबब रफ्तार में।
सत्य कुमार प्रेमी
*गधा (बाल कविता)*
*गधा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
खता कीजिए
खता कीजिए
surenderpal vaidya
यश तुम्हारा भी होगा।
यश तुम्हारा भी होगा।
Rj Anand Prajapati
हम तुम्हारे साथ हैं
हम तुम्हारे साथ हैं
विक्रम कुमार
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सारी हदों को तोड़कर कबूला था हमने तुमको।
सारी हदों को तोड़कर कबूला था हमने तुमको।
Taj Mohammad
चांद छुपा बादल में
चांद छुपा बादल में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अँधेरी गुफाओं में चलो, रौशनी की एक लकीर तो दिखी,
अँधेरी गुफाओं में चलो, रौशनी की एक लकीर तो दिखी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ज़िंदगी को इस तरह भी
ज़िंदगी को इस तरह भी
Dr fauzia Naseem shad
समय के हाथ पर ...
समय के हाथ पर ...
sushil sarna
दर्द ना अश्कों का है ना ही किसी घाव का है.!
दर्द ना अश्कों का है ना ही किसी घाव का है.!
शेखर सिंह
Loading...