Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2016 · 1 min read

अखिर क्यों—- कविता ये 2010 मे लिखी गयी कविता आज भी उतनी ही प्रासंगिक है

अखिर क्यों—- ये 2010 मे लिखी गयी कविता आज भी उतनी ही प्रासंगिक है

विस्फोटों की भरमार क्यों है
दुविधा में सरकार क्यों है
आतंकी धडल्ले से आते हैं
सोये पहरेदार क्यो है
सबूतों को झुठलाये पाक
दुश्मन झूठा मक्कार क्यों है
दुश्मन तेरी मानेगा क्या
ऐसा तेरा इतबार क्यों है
जो अपना दोशी ना पकड सका
उस अमरीका से गुहार क्यों है
शेर की माँद के आगे
गीदड की हुंकार क्यों है
अपने दम पर भरोसा कर
फैसले का इन्तजार क्यों है
शराफत से ना मने दुश्मन
चुप तेरी तलवार क्यों है
जो करना है जल्दी करो
आपस में तकरार क्यों है
भारतवासियो जागो अब
बेहोश बरखुरदार क्यों है

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Comments · 360 Views
You may also like:
कैसे प्रेम इज़हार करूं
Er.Navaneet R Shandily
भक्ति रस
लक्ष्मी सिंह
जीना मुश्किल
Harshvardhan "आवारा"
* सृजक *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चेहरा
शिव प्रताप लोधी
संघर्ष बिना कुछ नहीं मिलता
Shriyansh Gupta
शेर
Rajiv Vishal
Writing Challenge- समाचार (News)
Sahityapedia
मैं तो चाहता हूँ कि
gurudeenverma198
*छोड़ो मांसाहार (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आरक्षण का दंश
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
जब 'बुद्ध' कोई नहीं बनता।
Buddha Prakash
"शुभ श्रीकृष्ण जन्माष्टमी" प्यारे कन्हैया बंशी बजइया
Mahesh Tiwari 'Ayen'
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मैं कैसे
Ram Krishan Rastogi
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
हम फरिश्ता तो हो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
जल
मनोज कर्ण
प्रकृति के कण कण में ईश्वर बसता है।
Taj Mohammad
श्री राधा जन्माष्टमी
बिमल तिवारी आत्मबोध
एक प्यारी सी परी हमारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुंदर बाग़
DESH RAJ
✍️निज़ाम✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
शहादत
shabina. Naaz
JHIJHIYA DANCE IS A FOLK DANCE OF YADAV COMMUNITY
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
यह जिन्दगी
Anamika Singh
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अवसर
Shekhar Chandra Mitra
एक सुन्दरी है
Varun Singh Gautam
Loading...