Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2022 · 1 min read

अख़बार में आ गएँ by Vinit Singh Shayar

क़त्ल कर के आप अभी तक गुमनामी में हैं
मजमे में खड़े होकर हम अख़बार में आ गएँ

~विनीत सिंह

Language: Hindi
1 Like · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
ਉਸਦੀ ਮਿਹਨਤ
विनोद सिल्ला
यही तो जिंदगी का सच है
यही तो जिंदगी का सच है
gurudeenverma198
सिलसिला सांसों का
सिलसिला सांसों का
Dr fauzia Naseem shad
. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse
. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse
Ankita Patel
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
Ram Krishan Rastogi
एक सही आदमी ही अपनी
एक सही आदमी ही अपनी
Ranjeet kumar patre
ले आओ बरसात
ले आओ बरसात
Santosh Barmaiya #jay
राजनीति
राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
Taj Mohammad
"ईख"
Dr. Kishan tandon kranti
चल सतगुर के द्वार
चल सतगुर के द्वार
Satish Srijan
जीवन का सफर
जीवन का सफर
नवीन जोशी 'नवल'
सम पर रहना
सम पर रहना
Punam Pande
नहीं है प्रेम जीवन में
नहीं है प्रेम जीवन में
आनंद प्रवीण
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
Kishore Nigam
कृषक की उपज
कृषक की उपज
Praveen Sain
स्कूल जाना है
स्कूल जाना है
SHAMA PARVEEN
जाते हो.....❤️
जाते हो.....❤️
Srishty Bansal
छोड़ जाएंगे
छोड़ जाएंगे
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
खुलेआम जो देश को लूटते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
💐प्रेम कौतुक-554💐
💐प्रेम कौतुक-554💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*नीम का पेड़*
*नीम का पेड़*
Radhakishan R. Mundhra
आग उगलती मेरी क़लम
आग उगलती मेरी क़लम
Shekhar Chandra Mitra
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
*यह चिड़ियाँ हैं मस्ती में जो, गाना गाया करती हैं【हिंदी गजल/
*यह चिड़ियाँ हैं मस्ती में जो, गाना गाया करती हैं【हिंदी गजल/
Ravi Prakash
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
दिये को रोशन बनाने में रात लग गई
कवि दीपक बवेजा
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
जय लगन कुमार हैप्पी
अनवरत....
अनवरत....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
Loading...