Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 May 2023 · 1 min read

अखबार

अखबारों की सुर्खियाँ, मचा रहें हैं शोर।
अपराधों से हैं भरे,भींगे नयना कोर।।

कत्ल,डकैती,चोरियाँ, हिंसा, भ्रष्टाचार।
दिखता अब अखबार में, लाशों का बाजार।।

झूठ कपट पाखंड से,,भरा हुआ है अंक।
अब बिच्छू अखबार है,चुभती खबरें डंक।

कहीं जली है बेटियाँ,फेंका है तेजाब।
अखबारों में है लिखा,फिर लुट गया हिजाब।।

फाँसी पर लटके कृषक,फसलें हुई तबाह।
भरा हुआ अखबार में, मासूमों की आह।।

बाँट रहे हैं देश को, छुपे हुए गद्दार।
हत्या दंगा लूट से, भरा हुआ अखबार।।

स्तंभ देश का जो रहा, दृढ़ थे उच्च विचार।
बेच दिया ईमान को,लेकिन अब अखबार।।

बाँध लिया है बेड़ियों ,इसके उर उद्गार।
सत्य भूल कर झूठ को, लिखता अब अखबार।।

पढ़े लिखे धरने करे,बुद्धि हुईं है मंद।
खबर छपी अखबार में, सड़कें राहें बंद।।

कब बदलेगी ये खबर, कब बदले तस्वीर।
अखबारों के पेज पर, बदले शब्द ज़खींर।।

-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

Language: Hindi
2 Likes · 136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
■ आज का नमन्।।
■ आज का नमन्।।
*Author प्रणय प्रभात*
गीतिका...
गीतिका...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मंजिलें
मंजिलें
Mukesh Kumar Sonkar
वो मुझे पास लाना नही चाहता
वो मुझे पास लाना नही चाहता
कृष्णकांत गुर्जर
मुझे अधूरा ही रहने दो....
मुझे अधूरा ही रहने दो....
Santosh Soni
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
Manisha Manjari
ख़ामोश निगाहें
ख़ामोश निगाहें
Surinder blackpen
मोबाइल
मोबाइल
Punam Pande
राष्ट्रीय किसान दिवस
राष्ट्रीय किसान दिवस
Akash Yadav
* याद कर लें *
* याद कर लें *
surenderpal vaidya
फांसी के तख्ते से
फांसी के तख्ते से
Shekhar Chandra Mitra
मुसाफिर
मुसाफिर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
manjula chauhan
विभेद दें।
विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
हाय.
हाय.
Vishal babu (vishu)
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बड़ा हथियार
बड़ा हथियार
Satish Srijan
कर्म भाव उत्तम रखो,करो ईश का ध्यान।
कर्म भाव उत्तम रखो,करो ईश का ध्यान।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*गाओ हर्ष विभोर हो, आया फागुन माह (कुंडलिया)
*गाओ हर्ष विभोर हो, आया फागुन माह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी हसरत जवान रहने दे ।
मेरी हसरत जवान रहने दे ।
Neelam Sharma
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
VINOD CHAUHAN
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कौन याद दिलाएगा शक्ति
कौन याद दिलाएगा शक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एक कतरा प्यार
एक कतरा प्यार
Srishty Bansal
"नींद की तलाश"
Pushpraj Anant
Peace peace
Peace peace
Poonam Sharma
2321.पूर्णिका
2321.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Aman Kumar Holy
Loading...