Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2024 · 1 min read

अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह

अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी हथेलियों में खींचे होते हैं किसी और के नाम के खांके और……इन खांको को साथ लेकर ही हम तलाशते रहते हैं अपने हमसफ़र ……पर हम ये भूल जाते हैं कि इस दुनिया में ईश्वर ने सबके सांचे अलग ढाले हैं …सबके आकार अलग हैं ……सबकी खूबियां अलग हैं ….कोई किसी के सांचे में फिट नहीं बैठ सकता …..
इसलिए अबकी बार किसीको ढूंढो तो हथेलियों में ख़ाके लेकर मत ढूंढना ….वरना उम्रभर तलाश में ही रहोगे 🤍
#विरह

95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इश्क पहली दफा
इश्क पहली दफा
साहित्य गौरव
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
खींच रखी हैं इश्क़ की सारी हदें उसने,
खींच रखी हैं इश्क़ की सारी हदें उसने,
शेखर सिंह
एक सही आदमी ही अपनी
एक सही आदमी ही अपनी
Ranjeet kumar patre
" कटु सत्य "
DrLakshman Jha Parimal
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
मुझसे गुस्सा होकर
मुझसे गुस्सा होकर
Mr.Aksharjeet
मूकनायक
मूकनायक
मनोज कर्ण
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
माज़ी में जनाब ग़ालिब नज़र आएगा
Atul "Krishn"
प्रकृति का विनाश
प्रकृति का विनाश
Sushil chauhan
कबीरा यह मूर्दों का गांव
कबीरा यह मूर्दों का गांव
Shekhar Chandra Mitra
माह सितंबर
माह सितंबर
Harish Chandra Pande
मोहब्बत में जीत कहां मिलती है,
मोहब्बत में जीत कहां मिलती है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
होली
होली
Madhavi Srivastava
यह जिंदगी का सवाल है
यह जिंदगी का सवाल है
gurudeenverma198
आदर्श
आदर्श
Bodhisatva kastooriya
सारंग-कुंडलियाँ की समीक्षा
सारंग-कुंडलियाँ की समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
Gaurav Sony
जल बचाकर
जल बचाकर
surenderpal vaidya
हर क़दम पर सराब है सचमुच
हर क़दम पर सराब है सचमुच
Sarfaraz Ahmed Aasee
रक्त के परिसंचरण में ॐ ॐ ओंकार होना चाहिए।
रक्त के परिसंचरण में ॐ ॐ ओंकार होना चाहिए।
Rj Anand Prajapati
■ बे-मन की बात।।
■ बे-मन की बात।।
*Author प्रणय प्रभात*
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
"दास्तान"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम्हारे लिए
तुम्हारे लिए
हिमांशु Kulshrestha
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*अध्याय 3*
*अध्याय 3*
Ravi Prakash
2580.पूर्णिका
2580.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बीत जाता हैं
बीत जाता हैं
TARAN VERMA
Loading...