Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-505💐

अकेली रात बची है,कहीं उन्हें देखने के लिए,
मुसाफ़िर सा फिरूँ दिल में उन्हें देखने के लिए,
आज़माइश चलेगी उनकी पता नहीं कब तक,
अश्क़ भी अब थक रहें हैं,उन्हें देखने के लिए।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जालिम
जालिम
Satish Srijan
नियति
नियति
Shyam Sundar Subramanian
लौट आओ तो सही
लौट आओ तो सही
मनोज कर्ण
फिर जनता की आवाज बना
फिर जनता की आवाज बना
vishnushankartripathi7
गम को भुलाया जाए
गम को भुलाया जाए
Dr. Sunita Singh
दरकते हुए रिश्तों में
दरकते हुए रिश्तों में
Dr fauzia Naseem shad
(Y) Special Story :-
(Y) Special Story :-
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-265💐
💐प्रेम कौतुक-265💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
चलो अब बुद्ध धाम दिखाए ।
Buddha Prakash
सभी धर्म महान
सभी धर्म महान
RAKESH RAKESH
दूध बन जाता है पानी
दूध बन जाता है पानी
कवि दीपक बवेजा
निर्मोही
निर्मोही
Shekhar Chandra Mitra
*दो स्थितियां*
*दो स्थितियां*
सूर्यकांत द्विवेदी
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
पुस्तक समीक्षा - अंतस की पीड़ा से फूटा चेतना का स्वर रेत पर कश्तियाँ
पुस्तक समीक्षा - अंतस की पीड़ा से फूटा चेतना का स्वर रेत पर कश्तियाँ
डॉ. दीपक मेवाती
यूँ तो समुंदर बेवजह ही बदनाम होता है
यूँ तो समुंदर बेवजह ही बदनाम होता है
'अशांत' शेखर
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
देने के लिए मेरे पास बहुत कुछ था ,
Rohit yadav
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
*ये उन दिनो की बात है*
*ये उन दिनो की बात है*
Shashi kala vyas
कोशी के वटवृक्ष
कोशी के वटवृक्ष
Shashi Dhar Kumar
धन से कब होता जुड़ा ,खुशियों भरा स्वभाव(कुंडलिया)
धन से कब होता जुड़ा ,खुशियों भरा स्वभाव(कुंडलिया)
Ravi Prakash
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
दर्द
दर्द
Dr. Seema Varma
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
मेरा हाल कैसे किसी को बताउगा, हर महीने रोटी घर बदल बदल कर खा
Anil chobisa
शेर
शेर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अमृता
अमृता
Surinder blackpen
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
तुम्हारे बार बार रुठने पर भी
तुम्हारे बार बार रुठने पर भी
gurudeenverma198
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
नज़र नज़र का फर्क है साहेब...!!
Vishal babu (vishu)
“सबसे प्यारी मेरी कविता”
“सबसे प्यारी मेरी कविता”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...