Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

“अकेला”

डॉ लक्ष्मण झा परिमल
==============
क्यों किसी को
मैं वाध्य करूँ
क्यों किसी को
अपना विचार थोंपू ?
सब स्वतंत्र हैं
जो जी चाहे कहें
अपनी बातों को
सबके सामने रखें !
शिष्टता का ध्यान हो
कटुता से दूर रहो
मृदुलता से बात कहो
पर सदा कहते रहो !
कोई पढे आपको या
नज़रअंदाज करे
मान्यता दे ना दे
आपको इनकार करे !
पांडव क्या कौरव से
युद्ध में हार गया था
शकुनि के प्रपंचों से
कोई निराश हुआ था ?
कलम के हथियारों से
विचार लिखके छोड़ेंगे
जुल्म अत्याचार के
कुरितिओं को तोड़ेंगे !
साथ कोई ना चले
हम चलते जाएंगे
आंसमा पे तिरंगा
शान से फराएंगे !!
===============
डॉ लक्ष्मण झा परिमल
साउन्ड हेल्थ क्लिनिक
एस 0 पी 0 कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
भारत
31.07.2023

Language: Hindi
137 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🌸 सभ्य समाज🌸
🌸 सभ्य समाज🌸
पूर्वार्थ
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
Sahil Ahmad
कितनी सहमी सी
कितनी सहमी सी
Dr fauzia Naseem shad
सीखने की भूख (Hunger of Learn)
सीखने की भूख (Hunger of Learn)
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अक्सर सच्ची महोब्बत,
अक्सर सच्ची महोब्बत,
शेखर सिंह
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
"टेंशन को टा-टा"
Dr. Kishan tandon kranti
शेर
शेर
SHAMA PARVEEN
मेला
मेला
Dr.Priya Soni Khare
मां गोदी का आसन स्वर्ग सिंहासन💺
मां गोदी का आसन स्वर्ग सिंहासन💺
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शीर्षक – वह दूब सी
शीर्षक – वह दूब सी
Manju sagar
खूबियाँ और खामियाँ सभी में होती हैं, पर अगर किसी को आपकी खूब
खूबियाँ और खामियाँ सभी में होती हैं, पर अगर किसी को आपकी खूब
Manisha Manjari
3265.*पूर्णिका*
3265.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#साहित्यपीडिया
#साहित्यपीडिया
*Author प्रणय प्रभात*
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हवाओ में हुं महसूस करो
हवाओ में हुं महसूस करो
Rituraj shivem verma
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
Ajay Shekhavat
मेरी दुनियाँ.....
मेरी दुनियाँ.....
Naushaba Suriya
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
जब आपका ध्यान अपने लक्ष्य से हट जाता है,तब नहीं चाहते हुए भी
Paras Nath Jha
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त  - शंका
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त - शंका
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
Dr Archana Gupta
मगरूर क्यों हैं
मगरूर क्यों हैं
Mamta Rani
रस्म उल्फत की यह एक गुनाह में हर बार करु।
रस्म उल्फत की यह एक गुनाह में हर बार करु।
Phool gufran
*आइए स्वदेशी वस्तुओं का उपयोग करें (घनाक्षरी : सिंह विलोकित
*आइए स्वदेशी वस्तुओं का उपयोग करें (घनाक्षरी : सिंह विलोकित
Ravi Prakash
Gazal 25
Gazal 25
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
//...महापुरुष...//
//...महापुरुष...//
Chinta netam " मन "
" मिट्टी के बर्तन "
Pushpraj Anant
इश्क का तोता
इश्क का तोता
Neelam Sharma
Loading...