Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2024 · 1 min read

” अकेलापन की तड़प”

” अकेलापन की तड़प”
अकेलापन की तड़प, दिल को छू जाती है,
विचारों की गहराई में, मुस्कान खो जाती है।

अजनबी सी राहों में, खोया हुआ दिल,
सपनों की ख्वाहिश में, बस एक जलन रही है।

साथी की तलाश में, चल पड़ा हूँ अकेला,
पर राह में रौशनी, कहीं नहीं मिलती है।

धुंधली सी आस है, ख्वाबों की यादों में,
धड़कनों की धड़कन, एक अजनबी सी सुनाई देती है।

अकेलापन की तड़प, इस दिल को जलाती है,
पर उम्मीद की किरण, हमेशा जगमगाती है।।

“पुष्पराज फूलदास अनंत”

1 Like · 1 Comment · 35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सिंह सा दहाड़ कर
सिंह सा दहाड़ कर
Gouri tiwari
गुरु और गुरू में अंतर
गुरु और गुरू में अंतर
Subhash Singhai
विश्वास
विश्वास
Paras Nath Jha
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
Dr MusafiR BaithA
गीत.......✍️
गीत.......✍️
SZUBAIR KHAN KHAN
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
पीर पराई
पीर पराई
Satish Srijan
नये अमीर हो तुम
नये अमीर हो तुम
Shivkumar Bilagrami
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
चुप रहना ही खाशियत है इस दौर की
डॉ. दीपक मेवाती
सोच की अय्याशीया
सोच की अय्याशीया
Sandeep Pande
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
ध्यान-उपवास-साधना, स्व अवलोकन कार्य।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दुनिया बदल गयी ये नज़ारा बदल गया ।
दुनिया बदल गयी ये नज़ारा बदल गया ।
Phool gufran
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
‼ ** सालते जज़्बात ** ‼
Dr Manju Saini
****जानकी****
****जानकी****
Kavita Chouhan
बूढ़ा बरगद का पेड़ बोला (मार्मिक कविता)
बूढ़ा बरगद का पेड़ बोला (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
लहर आजादी की
लहर आजादी की
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
बेवफा, जुल्मी💔 पापा की परी, अगर तेरे किए वादे सच्चे होते....
बेवफा, जुल्मी💔 पापा की परी, अगर तेरे किए वादे सच्चे होते....
SPK Sachin Lodhi
शिवोहं
शिवोहं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Sushila joshi
Ye sham uski yad me gujarti nahi,
Ye sham uski yad me gujarti nahi,
Sakshi Tripathi
चिल्हर
चिल्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बाल नहीं खुले तो जुल्फ कह गयी।
बाल नहीं खुले तो जुल्फ कह गयी।
Anil chobisa
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
Ravi Prakash
शून्य ही सत्य
शून्य ही सत्य
Kanchan verma
किसी को घर, तो किसी को रंग महलों में बुलाती है,
किसी को घर, तो किसी को रंग महलों में बुलाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मां
मां
Sûrëkhâ
"छछून्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
लोगों को जगा दो
लोगों को जगा दो
Shekhar Chandra Mitra
धूम भी मच सकती है
धूम भी मच सकती है
gurudeenverma198
Loading...