Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2023 · 1 min read

अंधेरे के आने का खौफ,

अंधेरे के आने का खौफ,
ना रखो कभी जहन मे,
रखो तो साथ हमेशा अपने,
एक छोटा प्रकाश का दीया ।

बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

2 Likes · 2 Comments · 440 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
#तेवरी / #त्यौहार_गए
#तेवरी / #त्यौहार_गए
*Author प्रणय प्रभात*
गुरुर ज्यादा करोगे
गुरुर ज्यादा करोगे
Harminder Kaur
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
Anil Mishra Prahari
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
नियम
नियम
Ajay Mishra
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
नज़र
नज़र
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
रंगोली
रंगोली
Neelam Sharma
स्वतंत्रता दिवस
स्वतंत्रता दिवस
Dr Archana Gupta
Prastya...💐
Prastya...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
विनती
विनती
कविता झा ‘गीत’
विश्व तुम्हारे हाथों में,
विश्व तुम्हारे हाथों में,
कुंवर बहादुर सिंह
चाय का निमंत्रण
चाय का निमंत्रण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जल बचाओ, ना बहाओ।
जल बचाओ, ना बहाओ।
Buddha Prakash
वो जहां
वो जहां
हिमांशु Kulshrestha
** समय कीमती **
** समय कीमती **
surenderpal vaidya
आजादी विचारों से होनी चाहिये
आजादी विचारों से होनी चाहिये
Radhakishan R. Mundhra
*कुंडी पहले थी सदा, दरवाजों के साथ (कुंडलिया)*
*कुंडी पहले थी सदा, दरवाजों के साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तेरा बना दिया है मुझे
तेरा बना दिया है मुझे
gurudeenverma198
"ऐ मितवा"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
Neeraj Agarwal
काग़ज़ के पुतले बने,
काग़ज़ के पुतले बने,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इन आँखों को हो गई,
इन आँखों को हो गई,
sushil sarna
मन की आंखें
मन की आंखें
Mahender Singh
"बेरोजगार या दलालों का व्यापार"
Mukta Rashmi
हिंदी शायरी का एंग्री यंग मैन
हिंदी शायरी का एंग्री यंग मैन
Shekhar Chandra Mitra
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
सजाता हूँ मिटाता हूँ टशन सपने सदा देखूँ
आर.एस. 'प्रीतम'
ओ! चॅंद्रयान
ओ! चॅंद्रयान
kavita verma
जीवन के दिन चार थे, तीन हुआ बेकार।
जीवन के दिन चार थे, तीन हुआ बेकार।
Manoj Mahato
Loading...