Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2023 · 1 min read

अंधकार जो छंट गया

अंधेरे है मगर
इतना खौफनाक मंजर
भयानक आवाज़,
दृश्यमान कुछ है नहीं,

मगर प्राण कंप उठे है,
चेहरे पर पसीना, आंखें सूर्ख लाल,
आंखों की पुतली जैसे भौंह के पीछे छुप गई,
सन्नाटा टूटने लगा,
तेज हवाएं,
आसमां में बादल,
उनके टकराने पर तड़क बिजली,
तड़ित न हुई,
शुक्रगुज़ार उसका,

पक्षी वृक्षों के आश्रय,
टूटने लगी टहनी
वृक्ष गिरे
साथ कुचले गये,

मूसलाधार वर्षा,
उडने वाले उड न सके
गति अपनी बढ़ा न सके,
पंख गीले
ओलावृष्टि जैसी तेज बूंदें.

सरपट दौड़ लगाता पानी,
छीनते देख,
पैरों तले की जमीन,
खिसक गई.
अंधकार हैं मगर
वजूद किसी का सतत नहीं,

ये स्वप्न सा संसार,
सपनों जैसा ही रह गया,
उठा तो सब ठीक था,

पेडों के लहराते पत्र,
पक्षियों का कलरव,
काम पर लगे
घर के सभी सदस्य,
रोजमर्राह के काम में जुटी
अर्धांगिनी.

लगता है,
आज फिर,
अंधेरे में गायब,
वे सब दृश्य,
जो मन अशांत है,
उठ जाओ,
आपके पैरों तले जमीन है,

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 418 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahender Singh
View all
You may also like:
*चिकित्सक (कुंडलिया)*
*चिकित्सक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*** तस्वीर....!!! ***
*** तस्वीर....!!! ***
VEDANTA PATEL
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
Taj Mohammad
कल की फ़िक्र को
कल की फ़िक्र को
Dr fauzia Naseem shad
भीगे-भीगे मौसम में.....!!
भीगे-भीगे मौसम में.....!!
Kanchan Khanna
मै बेरोजगारी पर सवार हु
मै बेरोजगारी पर सवार हु
भरत कुमार सोलंकी
बावरी
बावरी
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
महाकाल महिमा
महाकाल महिमा
Neeraj Mishra " नीर "
सुबह की चाय मिलाती हैं
सुबह की चाय मिलाती हैं
Neeraj Agarwal
🪁पतंग🪁
🪁पतंग🪁
Dr. Vaishali Verma
अधूरे ख्वाब
अधूरे ख्वाब
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
शेखर सिंह
नजर  नहीं  आता  रास्ता
नजर नहीं आता रास्ता
Nanki Patre
परिपक्वता
परिपक्वता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"प्रकृति की ओर लौटो"
Dr. Kishan tandon kranti
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
भेड़ों के बाड़े में भेड़िये
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*कविताओं से यह मत पूछो*
*कविताओं से यह मत पूछो*
Dr. Priya Gupta
क्या क्या बदले
क्या क्या बदले
Rekha Drolia
एक चिडियाँ पिंजरे में 
एक चिडियाँ पिंजरे में 
Punam Pande
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
Sanjay ' शून्य'
🙅परिभाषा🙅
🙅परिभाषा🙅
*Author प्रणय प्रभात*
गीत..
गीत..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
माँ मुझे विश्राम दे
माँ मुझे विश्राम दे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जन मन में हो उत्कट चाह
जन मन में हो उत्कट चाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
उस रावण को मारो ना
उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
मेरा दिन भी आएगा !
मेरा दिन भी आएगा !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जुदाई - चंद अशआर
जुदाई - चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
एकाकीपन
एकाकीपन
लक्ष्मी सिंह
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
Anil Mishra Prahari
हे राम!धरा पर आ जाओ
हे राम!धरा पर आ जाओ
Mukta Rashmi
Loading...