Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

अंदाजे इश्क़

बेफ़वाई की भी न थी वो शर्म सारी छोड़ बैठे
कस्मे तोड़ी भी न थी ,वो हदें सारी तोड़ बेठे
*********************************
रफ्ता-2 ही समझेंगे वो हमारा अंदाजे इश्क़
क्या हुआ जो नादानी में हमसे मुँह मोड़ बेठे
**********************************
कपिल कुमार
26/07/2016

Language: Hindi
406 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*भीड बहुत है लोग नहीं दिखते* ( 11 of 25 )
*भीड बहुत है लोग नहीं दिखते* ( 11 of 25 )
Kshma Urmila
हमारे जीवन की सभी समस्याओं की वजह सिर्फ दो शब्द है:—
हमारे जीवन की सभी समस्याओं की वजह सिर्फ दो शब्द है:—
पूर्वार्थ
मेरे पिता
मेरे पिता
Dr.Pratibha Prakash
कबले विहान होखता!
कबले विहान होखता!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
प्रेमचन्द के पात्र अब,
प्रेमचन्द के पात्र अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-203💐
💐प्रेम कौतुक-203💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ सीधी सपाट...
■ सीधी सपाट...
*Author प्रणय प्रभात*
गुरु तेग बहादुर जी का वलिदान युगों तक प्रेरणा देगा।
गुरु तेग बहादुर जी का वलिदान युगों तक प्रेरणा देगा।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रिश्तों को निभा
रिश्तों को निभा
Dr fauzia Naseem shad
पुनर्जन्म का साथ
पुनर्जन्म का साथ
Seema gupta,Alwar
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
यह सागर कितना प्यासा है।
यह सागर कितना प्यासा है।
Anil Mishra Prahari
दर्द उसे होता है
दर्द उसे होता है
Harminder Kaur
मुझे पता है।
मुझे पता है।
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
मीठे बोल
मीठे बोल
विजय कुमार अग्रवाल
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
आचार्य वृन्दान्त
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2947.*पूर्णिका*
2947.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
करोगे याद मुझको मगर
करोगे याद मुझको मगर
gurudeenverma198
रंग ही रंगमंच के किरदार है
रंग ही रंगमंच के किरदार है
Neeraj Agarwal
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
DrLakshman Jha Parimal
बड़बोले बढ़-बढ़ कहें, झूठी-सच्ची बात।
बड़बोले बढ़-बढ़ कहें, झूठी-सच्ची बात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
उदासियां
उदासियां
Surinder blackpen
अपनी  इबादत  पर  गुरूर  मत  करना.......
अपनी इबादत पर गुरूर मत करना.......
shabina. Naaz
किताब
किताब
Sûrëkhâ Rãthí
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दिन आये हैं मास्क के...
दिन आये हैं मास्क के...
आकाश महेशपुरी
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
Jay Dewangan
Loading...