Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2017 · 1 min read

अंदर की ताकत

अंदर की ताकत
अक्सर छुपी होती है
हम सबमें,
और बात बात पर
वो बाहर निकलती भी नहीं ,
वो तब नही
नजर आती
सब साथ कोई
सहारा देने खडा़ होता है ,
और तब भी नही
जब सब कुछ
अनुकूल होता है।
ये अंदर की ताकत
जिसे हम हौसला कहते हैं
तब नजर आता है,
जब कोई न खडा हो साथ,
और सब कुछ प्रतिकूल होता है
यही वो समय होता
जब इंसान के अंदर से
होता है
एक नए इंसान का
अभ्युदय ।
कोई माउंटेन मैन बन जाता है
और कोई पान सिंह तोमर ।
यूं ही नही बनती
हिम्मत हौसला जुनून की कहानी

Language: Hindi
1 Like · 237 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
है मुश्किल दौर सूखी,
है मुश्किल दौर सूखी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खुद का साथ
खुद का साथ
Shakuntla Shaku
इन बादलों की राहों में अब न आना कोई
इन बादलों की राहों में अब न आना कोई
VINOD KUMAR CHAUHAN
सिद्धार्थ बुद्ध की करुणा
सिद्धार्थ बुद्ध की करुणा
Buddha Prakash
मरने से
मरने से
Dr fauzia Naseem shad
"प्यासा"मत घबराइए ,
Vijay kumar Pandey
*घर-घर में झगड़े हुए, घर-घर होते क्लेश 【कुंडलिया】*
*घर-घर में झगड़े हुए, घर-घर होते क्लेश 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
छोटी छोटी कढ़ियों से बनी जंजीर
छोटी छोटी कढ़ियों से बनी जंजीर
Dr. Rajiv
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"दोस्ती का मतलब" लेखक राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत, गुजरात!
Radhakishan Mundhra
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
सुनील कुमार
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
कौन सोचता....
कौन सोचता....
डॉ.सीमा अग्रवाल
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"एक और दिन"
Dr. Kishan tandon kranti
दोस्ती से हमसफ़र
दोस्ती से हमसफ़र
Seema gupta,Alwar
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
उधार वो किसी का रखते नहीं,
उधार वो किसी का रखते नहीं,
Vishal babu (vishu)
💐प्रेम कौतुक-335💐
💐प्रेम कौतुक-335💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख़ुशामद
ख़ुशामद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तुम गजल मेरी हो
तुम गजल मेरी हो
साहित्य गौरव
जाने क्यूँ उसको सोचकर -
जाने क्यूँ उसको सोचकर -"गुप्तरत्न" भावनाओं के समन्दर में एहसास जो दिल को छु जाएँ
गुप्तरत्न
ग़म
ग़म
Dr.S.P. Gautam
चंदा मामा (बाल कविता)
चंदा मामा (बाल कविता)
Dr. Kishan Karigar
ज़िंदगी
ज़िंदगी
नन्दलाल सुथार "राही"
शनि देव
शनि देव
Sidhartha Mishra
★गैर★
★गैर★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
महाराणा प्रताप
महाराणा प्रताप
Satish Srijan
सूरज उतरता देखकर कुंडी मत लगा लेना
सूरज उतरता देखकर कुंडी मत लगा लेना
कवि दीपक बवेजा
परवरिश
परवरिश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...