Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2017 · 1 min read

अंदर की ताकत

अंदर की ताकत
अक्सर छुपी होती है
हम सबमें,
और बात बात पर
वो बाहर निकलती भी नहीं ,
वो तब नही
नजर आती
सब साथ कोई
सहारा देने खडा़ होता है ,
और तब भी नही
जब सब कुछ
अनुकूल होता है।
ये अंदर की ताकत
जिसे हम हौसला कहते हैं
तब नजर आता है,
जब कोई न खडा हो साथ,
और सब कुछ प्रतिकूल होता है
यही वो समय होता
जब इंसान के अंदर से
होता है
एक नए इंसान का
अभ्युदय ।
कोई माउंटेन मैन बन जाता है
और कोई पान सिंह तोमर ।
यूं ही नही बनती
हिम्मत हौसला जुनून की कहानी

Language: Hindi
1 Like · 292 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
मसला सिर्फ जुबान का हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
मेरे पांच रोला छंद
मेरे पांच रोला छंद
Sushila joshi
23/113.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/113.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन जितना होता है
जीवन जितना होता है
Dr fauzia Naseem shad
What Is Love?
What Is Love?
Vedha Singh
इच्छा और परीक्षा
इच्छा और परीक्षा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ज़माने की नजर से।
ज़माने की नजर से।
Taj Mohammad
घिरी घटा घन साँवरी, हुई दिवस में रैन।
घिरी घटा घन साँवरी, हुई दिवस में रैन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
माँ स्कंदमाता की कृपा,
माँ स्कंदमाता की कृपा,
Neelam Sharma
*छूकर मुझको प्रभो पतित में, पावनता को भर दो (गीत)*
*छूकर मुझको प्रभो पतित में, पावनता को भर दो (गीत)*
Ravi Prakash
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
कवि अनिल कुमार पँचोली
सोच
सोच
Shyam Sundar Subramanian
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
🍈🍈
🍈🍈
*प्रणय प्रभात*
खिला तो है कमल ,
खिला तो है कमल ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
" सर्कस सदाबहार "
Dr Meenu Poonia
हिंदी क्या है
हिंदी क्या है
Ravi Shukla
57...Mut  qaarib musamman mahzuuf
57...Mut qaarib musamman mahzuuf
sushil yadav
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
पूर्वार्थ
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
चुभते शूल.......
चुभते शूल.......
Kavita Chouhan
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
ज़ख़्म गहरा है सब्र से काम लेना है,
Phool gufran
" ज़ख़्मीं पंख‌ "
Chunnu Lal Gupta
"मास्टर कौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
मेरी हास्य कविताएं अरविंद भारद्वाज
मेरी हास्य कविताएं अरविंद भारद्वाज
अरविंद भारद्वाज
मुझसे नाराज़ कभी तू , होना नहीं
मुझसे नाराज़ कभी तू , होना नहीं
gurudeenverma198
दुनिया रैन बसेरा है
दुनिया रैन बसेरा है
अरशद रसूल बदायूंनी
बर्फ़ीली घाटियों में सिसकती हवाओं से पूछो ।
बर्फ़ीली घाटियों में सिसकती हवाओं से पूछो ।
Manisha Manjari
Loading...