गज़ल

निर्मला कपिला

रचनाकार- निर्मला कपिला

विधा- गज़ल/गीतिका

खुशी से जिसे था गले से लगाया
उसी ने मुझे दर्द दे कर रुलाया

बहे अश्क तो भी सभी से छुपाए
धुंएं का तो उनसे बहाना बनाया

भले आजमा ले मेरे बाजूओं को
अभी उनमे हिम्मत बहुत है बकाया

ख़तावार छूटे हैं अक्सर यहाँ पे
मगर बेगुनाहों को फांसी चढ़ाया

न शिकवा शिकायत रही वक़्त से भी
मुझे अर्श से फर्श तक चाहे लाया

खुदा के सिवा कौन रहबर है मेरा
गिरा गर कभी तो उसी ने उठाया

निशाने सियासत के पैने बड़े थे
किसानों के मुद्दों को जड़ से मिटाया

हवाओं से रही दुश्मनी रोज जिसकी
वो अम्बर को भी फिर कहाँ जीत पाया

न बैठे बिठाए ही मिलती है मंजिल
तपा खुद जो सूरज सवेरा वो लाया

चमक लौट आयी थी चेहरे पे उसके
जो हीरे को पत्थर पे हमने घिसाया

Sponsored
Views 6
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
निर्मला कपिला
Posts 71
Total Views 12.9k
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण रेडिओ विविध भरती जालन्धर से कहानी- अनन्त आकाश का प्रसारण | ब्लाग- www.veerbahuti.blogspot.in

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia