एक शेर

Surendra Shrivastava

रचनाकार- Surendra Shrivastava

विधा- शेर

ज़माने भर की मुश्किल हैं मगर कब दिल समझता है
ये खुद को प्यार के अब भी बहुत काबिल समझता है

सुरेन्द्र श्रीवास्तव

Sponsored
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia