Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2023 · 1 min read

You have climbed too hard to go back to the heights. Never g

You have climbed too hard to go back to the heights. Never give more chances to the person who has thrown you in the ditch. Collect yourself and move on to new heights, which are waiting to be achieved.

©®Manisha Manjari

184 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
हर परिवार है तंग
हर परिवार है तंग
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
Ragini Kumari
हार जाती मैं
हार जाती मैं
Yogi B
बाक़ी है..!
बाक़ी है..!
Srishty Bansal
जीवन तुम्हें जहां ले जाए तुम निर्भय होकर जाओ
जीवन तुम्हें जहां ले जाए तुम निर्भय होकर जाओ
Ms.Ankit Halke jha
Unki julfo ki ghata bhi  shadid takat rakhti h
Unki julfo ki ghata bhi shadid takat rakhti h
Sakshi Tripathi
आप खुद से भी
आप खुद से भी
Dr fauzia Naseem shad
पागल
पागल
Sushil chauhan
जय माता दी ।
जय माता दी ।
Anil Mishra Prahari
"सृजन"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
लक्ष्मी सिंह
जन्म-जन्म का साथ.....
जन्म-जन्म का साथ.....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम मुझे बना लो
तुम मुझे बना लो
श्याम सिंह बिष्ट
इल्जाम
इल्जाम
Vandna thakur
💐प्रेम कौतुक-378💐
💐प्रेम कौतुक-378💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अपने वीर जवान
अपने वीर जवान
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
एक बार बोल क्यों नहीं
एक बार बोल क्यों नहीं
goutam shaw
चंद अशआर -ग़ज़ल
चंद अशआर -ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"पर्सनल पूर्वाग्रह" के लँगोट
*Author प्रणय प्रभात*
*आदत बदल डालो*
*आदत बदल डालो*
Dushyant Kumar
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
कभी कभी किसी व्यक्ति(( इंसान))से इतना लगाव हो जाता है
Rituraj shivem verma
काव्य
काव्य
साहित्य गौरव
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
चल‌ मनवा चलें....!!!
चल‌ मनवा चलें....!!!
Kanchan Khanna
माता सति की विवशता
माता सति की विवशता
SHAILESH MOHAN
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
*कुछ तो बात है* ( 23 of 25 )
Kshma Urmila
*असीमित सिंधु है लेकिन, भरा जल से बहुत खारा (हिंदी गजल)*
*असीमित सिंधु है लेकिन, भरा जल से बहुत खारा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
Loading...