Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

You cannot feel me because

You cannot feel me because
I am an ocean , not droplet😍. by sakshi

1 Like · 137 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
सामाजिक न्याय
सामाजिक न्याय
Shekhar Chandra Mitra
*जब अंतिम क्षण आए प्रभु जी, बॉंह थाम ले जाना (गीत)*
*जब अंतिम क्षण आए प्रभु जी, बॉंह थाम ले जाना (गीत)*
Ravi Prakash
समझना है ज़रूरी
समझना है ज़रूरी
Dr fauzia Naseem shad
मन में नमन करूं..
मन में नमन करूं..
Harminder Kaur
चील .....
चील .....
sushil sarna
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
वर्तमान समय में रिश्तों की स्थिति पर एक टिप्पणी है। कवि कहता
पूर्वार्थ
भोर की खामोशियां कुछ कह रही है।
भोर की खामोशियां कुछ कह रही है।
surenderpal vaidya
बाल नहीं खुले तो जुल्फ कह गयी।
बाल नहीं खुले तो जुल्फ कह गयी।
Anil chobisa
24)”मुस्करा दो”
24)”मुस्करा दो”
Sapna Arora
inner voice!
inner voice!
कविता झा ‘गीत’
3157.*पूर्णिका*
3157.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कहां गए बचपन के वो दिन
कहां गए बचपन के वो दिन
Yogendra Chaturwedi
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
सुन कुछ मत अब सोच अपने काम में लग जा,
Anamika Tiwari 'annpurna '
इश्क़ का दस्तूर
इश्क़ का दस्तूर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यूँ तो समन्दर में कभी गोते लगाया करते थे हम
यूँ तो समन्दर में कभी गोते लगाया करते थे हम
The_dk_poetry
माँ
माँ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
शिक्षक
शिक्षक
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
मंद मंद बहती हवा
मंद मंद बहती हवा
Soni Gupta
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
इस शहर से अब हम हो गए बेजार ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
गुमशुदा लोग
गुमशुदा लोग
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हे माधव
हे माधव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
मशक-पाद की फटी बिवाई में गयन्द कब सोता है ?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जहाँ जिंदगी को सुकून मिले
जहाँ जिंदगी को सुकून मिले
Ranjeet kumar patre
चाहे तुम
चाहे तुम
Shweta Soni
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शाम उषा की लाली
शाम उषा की लाली
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
■ बस, एक ही अनुरोध...
■ बस, एक ही अनुरोध...
*Author प्रणय प्रभात*
विभीषण का दुःख
विभीषण का दुःख
Dr MusafiR BaithA
Loading...