Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Dec 2022 · 1 min read

Writing Challenge- कृतज्ञता (Gratitude)

आज का विषय है कृतज्ञता (Gratitude)

इस विषय पर किसी भी भाषा में एक नयी कविता, कहानी या संस्मरण लिखिए।

अपनी पोस्ट में Daily Writing Challenge टैग अवश्य जोड़ें।

यह कोई प्रतियोगिता नहीं है। आपको लिखने की प्रेरणा देने के लिए हम हर दिन एक नया विषय लेकर आते हैं।

1 Like · 172 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
ruby kumari
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
इंतजार युग बीत रहा
इंतजार युग बीत रहा
Sandeep Pande
"तानाशाही"
*Author प्रणय प्रभात*
*जीवन जीने की कला*
*जीवन जीने की कला*
Shashi kala vyas
ना समझ आया
ना समझ आया
Dinesh Kumar Gangwar
आपकी यादें
आपकी यादें
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
परोपकार का भाव
परोपकार का भाव
Buddha Prakash
धुवाँ (SMOKE)
धुवाँ (SMOKE)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*असर*
*असर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सरकारी
सरकारी
Lalit Singh thakur
प्यार में ही तकरार होती हैं।
प्यार में ही तकरार होती हैं।
Neeraj Agarwal
गर कभी आओ मेरे घर....
गर कभी आओ मेरे घर....
Santosh Soni
श्रृंगार
श्रृंगार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बे-ख़ुद
बे-ख़ुद
Shyam Sundar Subramanian
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
ਯੂਨੀਵਰਸਿਟੀ ਦੇ ਗਲਿਆਰੇ
Surinder blackpen
अनुराग
अनुराग
Bodhisatva kastooriya
*कॉंवड़ियों को कीजिए, झुककर सहज प्रणाम (कुंडलिया)*
*कॉंवड़ियों को कीजिए, झुककर सहज प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
Ranjeet kumar patre
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
जिंदगी माना कि तू बड़ी खूबसूरत है ,
Manju sagar
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
Neelam Sharma
जीवन से तम को दूर करो
जीवन से तम को दूर करो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
जगदीश लववंशी
समझ
समझ
अखिलेश 'अखिल'
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
Deepak Baweja
सुबह की चाय है इश्क,
सुबह की चाय है इश्क,
Aniruddh Pandey
महादेवी वर्मा जी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि
महादेवी वर्मा जी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि
Harminder Kaur
"खतरनाक"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
जाकर वहाँ मैं क्या करुँगा
जाकर वहाँ मैं क्या करुँगा
gurudeenverma198
Loading...