Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

When compactibility ends, fight beginns

When compactibility ends, fight beginns
You are not even given a chance to prove yourself 😍
By sakshi

158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*
*"अवध में राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
Neelam Sharma
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
सफलता वही है जो निरंतर एवं गुणवत्तापूर्ण हो।
dks.lhp
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
रमेशराज की तीन ग़ज़लें
कवि रमेशराज
बंदे को पता होता कि जेल से जारी आदेश मीडियाई सुर्खी व प्रेस
बंदे को पता होता कि जेल से जारी आदेश मीडियाई सुर्खी व प्रेस
*Author प्रणय प्रभात*
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
हे महादेव
हे महादेव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बदी करने वाले भी
बदी करने वाले भी
Satish Srijan
सुमति
सुमति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दर्द अपना
दर्द अपना
Dr fauzia Naseem shad
कांटें हों कैक्टस  के
कांटें हों कैक्टस के
Atul "Krishn"
कैद अधरों मुस्कान है
कैद अधरों मुस्कान है
Dr. Sunita Singh
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
बुंदेली दोहा बिषय- नानो (बारीक)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
महेश चन्द्र त्रिपाठी
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
Kailash singh
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Sakshi Tripathi
Next
Next
Rajan Sharma
सच और सोच
सच और सोच
Neeraj Agarwal
भगवन नाम
भगवन नाम
लक्ष्मी सिंह
🌸 सभ्य समाज🌸
🌸 सभ्य समाज🌸
पूर्वार्थ
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
शेखर सिंह
"कमल"
Dr. Kishan tandon kranti
3214.*पूर्णिका*
3214.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
उनके जख्म
उनके जख्म
'अशांत' शेखर
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
रास्ते जिंदगी के हंसते हंसते कट जाएंगे
कवि दीपक बवेजा
जिंदगी
जिंदगी
Seema gupta,Alwar
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
प्रभु पावन कर दो मन मेरा , प्रभु पावन तन मेरा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...