Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2022 · 1 min read

Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul

Once again, I am flying on my horizon,
Carrying so many memories; I never thought they would be mine.
I covered miles just to know if those wavelengths were right,
And came to realize that you were my lost and broken part, invisible for so long from my eyesight.
Holding your hands was not so easy,
But magical to know that letting you go was even harder and more uneasy.
My silence had been my asset, where no one was allowed,
But you found easily the voices I never said aloud.
Time passed in just a blink of an eye,
Leaving behind smiles and a kind of emptiness to rise.
Now the sunrises will not come alone,
I know that somewhere you will also be standing at the edge, losing yourself in the memories that were ours alone.
It’s unbelievable to know how God conspires with our roles,
Two different genders, two different bodies, and a single soul.

Language: English
Tag: Poem
2 Likes · 3 Comments · 323 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
"दिल में झाँकिए"
Dr. Kishan tandon kranti
झरना का संघर्ष
झरना का संघर्ष
Buddha Prakash
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
Sahil Ahmad
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
कम्प्यूटर ज्ञान :- नयी तकनीक- पावर बी आई
कम्प्यूटर ज्ञान :- नयी तकनीक- पावर बी आई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आलेख - मित्रता की नींव
आलेख - मित्रता की नींव
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
शेखर ✍️
शेखर ✍️
शेखर सिंह
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
पड़ जाएँ मिरे जिस्म पे लाख़ आबले 'अकबर'
Dr Tabassum Jahan
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
बहन की रक्षा करना हमारा कर्तव्य ही नहीं बल्कि धर्म भी है, पर
जय लगन कुमार हैप्पी
शुभ दिवाली
शुभ दिवाली
umesh mehra
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
इंसान को इतना पाखंड भी नहीं करना चाहिए कि आने वाली पीढ़ी उसे
Jogendar singh
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
शांति युद्ध
शांति युद्ध
Dr.Priya Soni Khare
चाय पे चर्चा
चाय पे चर्चा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सारा रा रा
सारा रा रा
Sanjay ' शून्य'
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
फ़ेसबुक पर पिता दिवस / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
3116.*पूर्णिका*
3116.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*देश के  नेता खूठ  बोलते  फिर क्यों अपने लगते हैँ*
*देश के नेता खूठ बोलते फिर क्यों अपने लगते हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
Pratibha Pandey
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
shabina. Naaz
नारी बिन नर अधूरा🙏
नारी बिन नर अधूरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कैसा अजीब है
कैसा अजीब है
हिमांशु Kulshrestha
प्रणय गीत --
प्रणय गीत --
Neelam Sharma
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ओंकार मिश्र
श्री हरि भक्त ध्रुव
श्री हरि भक्त ध्रुव
जगदीश लववंशी
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
Manisha Manjari
Loading...