Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2024 · 1 min read

Thought

Thought

Your dedication to your task always leads you to reach the destination in time with great success in all spheres.

Anil Kumar Gupta “Anjum”

1 Like · 30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
प्रेम।की दुनिया
प्रेम।की दुनिया
भरत कुमार सोलंकी
"ये जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
पापा
पापा
Lovi Mishra
*ऐसा युग भी आएगा*
*ऐसा युग भी आएगा*
Harminder Kaur
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*बिरहा की रात*
*बिरहा की रात*
Pushpraj Anant
मेरे नयनों में जल है।
मेरे नयनों में जल है।
Kumar Kalhans
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
अलग सी सोच है उनकी, अलग अंदाज है उनका।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
तन्हा -तन्हा
तन्हा -तन्हा
Surinder blackpen
"कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा" से भी बड़ा सवाल-
*प्रणय प्रभात*
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
जो उमेश हैं, जो महेश हैं, वे ही हैं भोले शंकर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मेरे सपनों में आओ . मेरे प्रभु जी
मेरे सपनों में आओ . मेरे प्रभु जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
I would never force anyone to choose me
I would never force anyone to choose me
पूर्वार्थ
रेशम की डोरी का
रेशम की डोरी का
Dr fauzia Naseem shad
बदनाम से
बदनाम से
विजय कुमार नामदेव
बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसद्दस मुज़ाफ़
बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसद्दस मुज़ाफ़
sushil yadav
सात जन्मों की शपथ
सात जन्मों की शपथ
Bodhisatva kastooriya
अधिकांश होते हैं गुमराह
अधिकांश होते हैं गुमराह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
Ravi Prakash
2515.पूर्णिका
2515.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बैठे थे किसी की याद में
बैठे थे किसी की याद में
Sonit Parjapati
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
ड्राइवर,डाकिया,व्यापारी,नेता और पक्षियों को बहुत दूर तक के स
Rj Anand Prajapati
ऐसा क्यों होता है
ऐसा क्यों होता है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो
दम है तो गलत का विरोध करो अंधभक्तो
शेखर सिंह
जिंदगी तुझको सलाम
जिंदगी तुझको सलाम
gurudeenverma198
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
रोज गमों के प्याले पिलाने लगी ये जिंदगी लगता है अब गहरी नींद
कृष्णकांत गुर्जर
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
"व्यक्ति जब अपने अंदर छिपी हुई शक्तियों के स्रोत को जान लेता
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...