Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jan 2024 · 1 min read

‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i

‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it is pure enough for drinking. If it falls in a gutter, its value drops so much that it can’t be used even for washing the feet. If it falls on hot surface, it perishes. If it falls on lotus leaf, it shines like a pearl and finally, if it falls on oyster, it becomes a pearl. The drop is same, but its existence & worth depend on with whom it associates.” Always be associated with people who are good at heart.

—Swami Vivekananda

1 Like · 100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फिरौती
फिरौती
Shyam Sundar Subramanian
*अभिनंदन हे तर्जनी, तुम पॉंचों में खास (कुंडलिया)*
*अभिनंदन हे तर्जनी, तुम पॉंचों में खास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#कुदरत_केरंग
#कुदरत_केरंग
*Author प्रणय प्रभात*
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
कवि रमेशराज
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
Vishal babu (vishu)
मन का डर
मन का डर
Aman Sinha
मुस्कुराना चाहते हो
मुस्कुराना चाहते हो
surenderpal vaidya
अनजान लड़का
अनजान लड़का
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
मिलती नहीं खुशी अब ज़माने पहले जैसे कहीं भी,
manjula chauhan
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
अपेक्षा किसी से उतनी ही रखें
Paras Nath Jha
मुझसे मेरी पहचान न छीनों...
मुझसे मेरी पहचान न छीनों...
Er. Sanjay Shrivastava
चुल्लू भर पानी में
चुल्लू भर पानी में
Satish Srijan
*मन का समंदर*
*मन का समंदर*
Sûrëkhâ
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
कितनी ही दफा मुस्कुराओ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/ "पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
जेठ का महीना
जेठ का महीना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
3049.*पूर्णिका*
3049.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
गमों के साथ इस सफर में, मेरा जीना भी मुश्किल है
Kumar lalit
I
I
Ranjeet kumar patre
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
कुछ अलग ही प्रेम था,हम दोनों के बीच में
Dr Manju Saini
स्त्री रहने दो
स्त्री रहने दो
Arti Bhadauria
बोलो ! ईश्वर / (नवगीत)
बोलो ! ईश्वर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सपने
सपने
Santosh Shrivastava
सेंसेक्स छुए नव शिखर,
सेंसेक्स छुए नव शिखर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इज़हार ए मोहब्बत
इज़हार ए मोहब्बत
Surinder blackpen
करनी का फल
करनी का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ शारदे
माँ शारदे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मन की बात
मन की बात
पूर्वार्थ
तज द्वेष
तज द्वेष
Neelam Sharma
Loading...