Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2023 · 1 min read

Tapish hai tujhe pane ki,

Tapish hai tujhe pane ki,
Pattharo se pasina bahane ki ,
Rah me chalte kankad se mil jane ki ,
Barf se pahle dhup me samane ki
Sifarish se badhkar hukumat chalane ki ,
Aye manjil teri baho me ane ki 😍 by sakshi

58 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
भ्रम
भ्रम
Shyam Sundar Subramanian
कांटों में जो फूल.....
कांटों में जो फूल.....
Vijay kumar Pandey
💐अज्ञात के प्रति-83💐
💐अज्ञात के प्रति-83💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल - इश्क़ है
ग़ज़ल - इश्क़ है
Mahendra Narayan
कमर दर्द, पीठ दर्द
कमर दर्द, पीठ दर्द
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
स्वस्थ्य मस्तिष्क में अच्छे विचारों की पूॅजी संकलित रहती है
स्वस्थ्य मस्तिष्क में अच्छे विचारों की पूॅजी संकलित रहती है
तरुण सिंह पवार
ये सच है कि उनके सहारे लिए
ये सच है कि उनके सहारे लिए
हरवंश हृदय
छोटे-मोटे मौक़ों पर
छोटे-मोटे मौक़ों पर
*Author प्रणय प्रभात*
संत नरसी (नरसिंह) मेहता
संत नरसी (नरसिंह) मेहता
Pravesh Shinde
"जंगल की सैर"
पंकज कुमार कर्ण
जीवन की सच्चाई
जीवन की सच्चाई
Sidhartha Mishra
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
हमें याद है ९ बजे रात के बाद एस .टी .डी. बूथ का मंजर ! लम्बी
DrLakshman Jha Parimal
खुद को अपडेट करो - संघर्ष ही लाता है नया वर्ष।
खुद को अपडेट करो - संघर्ष ही लाता है नया वर्ष।
Rj Anand Prajapati
# लोकतंत्र .....
# लोकतंत्र .....
Chinta netam " मन "
प्रणय 3
प्रणय 3
Ankita Patel
*पत्रिका का नाम : इंडियन थियोसॉफिस्ट*
*पत्रिका का नाम : इंडियन थियोसॉफिस्ट*
Ravi Prakash
आई होली
आई होली
Kavita Chouhan
जब तक नहीं है पास,
जब तक नहीं है पास,
Satish Srijan
दर्द अपना है
दर्द अपना है
Dr fauzia Naseem shad
भगवान परशुराम जी, हैं छठवें अवतार
भगवान परशुराम जी, हैं छठवें अवतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लटकते ताले
लटकते ताले
Kanchan Khanna
गं गणपत्ये! माँ कमले!
गं गणपत्ये! माँ कमले!
श्री रमण 'श्रीपद्'
Tapish hai tujhe pane ki,
Tapish hai tujhe pane ki,
Sakshi Tripathi
कभी-कभी आते जीवन में...
कभी-कभी आते जीवन में...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आप अपने मन को नियंत्रित करना सीख जाइए,
आप अपने मन को नियंत्रित करना सीख जाइए,
Mukul Koushik
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
Shekhar Chandra Mitra
पिता की व्यथा
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
एक दिन देखना तुम
एक दिन देखना तुम
gurudeenverma198
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
अपनी जिंदगी मे कुछ इस कदर मदहोश है हम,
अपनी जिंदगी मे कुछ इस कदर मदहोश है हम,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
Loading...