Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2023 · 1 min read

Success_Your_Goal

हमेशा खुश रहा
करिए क्योंकि,

खुशियों का संबंध दौलत से नही
दिल से होता है…!

Language: English
1 Like · 235 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
कवि दीपक बवेजा
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
*जब से मुकदमे में फॅंसा, कचहरी आने लगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
Ranjeet kumar patre
मन
मन
SATPAL CHAUHAN
प्रथम गुरु
प्रथम गुरु
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
हाथों से करके पर्दा निगाहों पर
gurudeenverma198
*
*"मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम"*
Shashi kala vyas
"मेरे हमसफर"
Ekta chitrangini
अब सच हार जाता है
अब सच हार जाता है
Dr fauzia Naseem shad
"रामनवमी पर्व 2023"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
N.ksahu0007@writer
2979.*पूर्णिका*
2979.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"फ़िर से तुम्हारी याद आई"
Lohit Tamta
इस दुनिया में कोई भी मजबूर नहीं होता बस अपने आदतों से बाज़ आ
इस दुनिया में कोई भी मजबूर नहीं होता बस अपने आदतों से बाज़ आ
Rj Anand Prajapati
राम आ गए
राम आ गए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सब्र रख
सब्र रख
VINOD CHAUHAN
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सपनो में देखूं तुम्हें तो
सपनो में देखूं तुम्हें तो
Aditya Prakash
आपस की दूरी
आपस की दूरी
Paras Nath Jha
#DrArunKumarshastri
#DrArunKumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम्हें अकेले चलना होगा
तुम्हें अकेले चलना होगा
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
गीतिका ******* आधार छंद - मंगलमाया
Alka Gupta
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
गुरु तेगबहादुर की शहादत का साक्षी है शीशगंज गुरुद्वारा
कवि रमेशराज
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
जिसके मन तृष्णा रहे, उपजे दुख सन्ताप।
अभिनव अदम्य
" धरती का क्रोध "
Saransh Singh 'Priyam'
थोथा चना
थोथा चना
Dr MusafiR BaithA
हर खुशी पर फिर से पहरा हो गया।
हर खुशी पर फिर से पहरा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
विशुद्ध व्याकरणीय
विशुद्ध व्याकरणीय
*Author प्रणय प्रभात*
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
बाल कविता: मुन्नी की मटकी
Rajesh Kumar Arjun
Loading...