Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2023 · 1 min read

Success is not final

Success is not final

Failure is not fatal

It is the courage to continue

That count

3 Likes · 233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
नववर्ष पर मुझको उम्मीद थी
gurudeenverma198
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
Paras Nath Jha
"वो दिन दूर नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बुंदेली दोहा-अनमने
बुंदेली दोहा-अनमने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
Shyam Sundar Subramanian
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
Anil chobisa
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
Dr.Priya Soni Khare
बचपन याद बहुत आता है
बचपन याद बहुत आता है
VINOD CHAUHAN
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
कैसा फसाना है
कैसा फसाना है
Dinesh Kumar Gangwar
लोग जाने किधर गये
लोग जाने किधर गये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बेहिसाब सवालों के तूफान।
बेहिसाब सवालों के तूफान।
Taj Mohammad
संत कबीर
संत कबीर
Lekh Raj Chauhan
2870.*पूर्णिका*
2870.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
खंडहर
खंडहर
Tarkeshwari 'sudhi'
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
कर दिया समर्पण सब कुछ तुम्हे प्रिय
Ram Krishan Rastogi
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
निरंतर प्रयास ही आपको आपके लक्ष्य तक पहुँचाता hai
Indramani Sabharwal
🙅बड़ा सच🙅
🙅बड़ा सच🙅
*प्रणय प्रभात*
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
कभी भूल से भी तुम आ जाओ
Chunnu Lal Gupta
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
प्राण-प्रतिष्ठा(अयोध्या राम मन्दिर)
प्राण-प्रतिष्ठा(अयोध्या राम मन्दिर)
लक्ष्मी सिंह
*सच्चाई यह जानिए, जीवन दुःख-प्रधान (कुंडलिया)*
*सच्चाई यह जानिए, जीवन दुःख-प्रधान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...