Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2024 · 1 min read

Sometimes…

Sometimes…
Sometimes people search all their lives, and sometimes they find it in a day… Sometimes we really want to express everything that is boiling, and sometimes in order to understand each other we just need to be silent together about so many things… Sometimes we turn off all our phones so that no one will disturb us, and sometimes we sit, surrounded by telephone receivers, and, unable to breathe, we tremble with impatience, waiting for one single call. Sometimes we wrap ourselves in a blanket and still cannot warm ourselves, because in fact we are cold not outside, but there, inside, in our hearts.

65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
पहचाना सा एक चेहरा
पहचाना सा एक चेहरा
Aman Sinha
हंसकर मुझे तू कर विदा
हंसकर मुझे तू कर विदा
gurudeenverma198
जल प्रदूषण पर कविता
जल प्रदूषण पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
कांटें हों कैक्टस  के
कांटें हों कैक्टस के
Atul "Krishn"
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
Kanchan Khanna
एक हैसियत
एक हैसियत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
कोई तो रोशनी का संदेशा दे,
manjula chauhan
2935.*पूर्णिका*
2935.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"सपना"
Dr. Kishan tandon kranti
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
खून-पसीने के ईंधन से, खुद का यान चलाऊंगा,
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
🙅आज🙅
🙅आज🙅
*Author प्रणय प्रभात*
हिन्दी दोहा-विश्वास
हिन्दी दोहा-विश्वास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
Paras Nath Jha
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
Rj Anand Prajapati
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
सत्य यह भी
सत्य यह भी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
surenderpal vaidya
दिवाली
दिवाली
Ashok deep
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
ज्योति
इक शे'र
इक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
इस उरुज़ का अपना भी एक सवाल है ।
Phool gufran
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
Anil chobisa
यार
यार
अखिलेश 'अखिल'
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
Anand Kumar
रिशते ना खास होते हैं
रिशते ना खास होते हैं
Dhriti Mishra
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
किया विषपान फिर भी दिल, निरंतर श्याम कहता है (मुक्तक)
Ravi Prakash
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
राज नहीं राजनीति हो अपना 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...