Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2021 · 1 min read

Social discriminative approach of maithili language

You can’t believe any language could be divided her society people? But it’s really truth, that social discriminative approach of maithili language. This language have always devide her society people in two part. i. e. maithili and nonmaithil since ancient to at present.
Only 10 to 12% of maithili speaking area people are authorised representative of maithili language through maithili mahasabha and language speaking standerd create for sahitya academy recognition of maithili.
Rest 88 to 90% of maithili speakers are not pure maithil? Because they all are called Raad, solkan, dachhinaha, pachhimaha, kosikanha, thethee boli, madheshi, etc by maithili standerd follower peoples.
Mithila society and maithili language have always follow the besless traditions of social discrimination on based of speaking style, cultural activities, customs etc. Why? maithili language sarounding rotet near diplomatic curve of pure maithil (shudh) and nonmaithil (ashudh)? In this circumstance how can all people will be authorised representative of maithili language in mithila society and maithili literature?

©Dr. Kishan Karigar
(Assist. Professor)
(©copyright)

Language: English
Tag: Article
1 Like · 821 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan Karigar
View all
You may also like:
समय के हाथ पर ...
समय के हाथ पर ...
sushil sarna
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
सकारात्मक सोच अंधेरे में चमकते हुए जुगनू के समान है।
Rj Anand Prajapati
धूप निकले तो मुसाफिर को छांव की जरूरत होती है
धूप निकले तो मुसाफिर को छांव की जरूरत होती है
कवि दीपक बवेजा
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बस माटी के लिए
बस माटी के लिए
Pratibha Pandey
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
Dont worry
Dont worry
*Author प्रणय प्रभात*
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
इन गज़लों का हुनर, तेरी आंखों की गुफ़्तुगू
इन गज़लों का हुनर, तेरी आंखों की गुफ़्तुगू
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
Dr Manju Saini
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
मौसम जब भी बहुत सर्द होता है
Ajay Mishra
चांद पर उतरा
चांद पर उतरा
Dr fauzia Naseem shad
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
पहला सुख निरोगी काया
पहला सुख निरोगी काया
जगदीश लववंशी
हश्र का वह मंज़र
हश्र का वह मंज़र
Shekhar Chandra Mitra
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
जब कोई न था तेरा तो बहुत अज़ीज़ थे हम तुझे....
पूर्वार्थ
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Madhu Shah
हवेली का दर्द
हवेली का दर्द
Atul "Krishn"
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*कभी लगता है जैसे धर्म, सद्गुण का खजाना है (हिंदी गजल/गीतिका
*कभी लगता है जैसे धर्म, सद्गुण का खजाना है (हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
मै थक गया हु
मै थक गया हु
भरत कुमार सोलंकी
योग करते जाओ
योग करते जाओ
Sandeep Pande
"स्वार्थ"
Dr. Kishan tandon kranti
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
साथ था
साथ था
SHAMA PARVEEN
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा  है मैंने
आँखों का कोना एक बूँद से ढँका देखा है मैंने
शिव प्रताप लोधी
***वारिस हुई***
***वारिस हुई***
Dinesh Kumar Gangwar
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
Dilip Kumar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Harish Chandra Pande
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...