Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 2 min read

Poem on “Maa” by Vedaanshii

“कविता लिखने बैठी हूँ”

कविता लिखने बैठी हूं –
मैं क्या कविता लिखूं?
जब कविता ने ही मुझे लिखा हो..

(संयोग से मेरी माँ का नाम कविता है। बहुत प्यारी माँ थीं। दुनिया की हर माँ बहुत प्यारी होती हैं। देवयोग से मेरी प्यारी माँ भगवान को प्यारी हो गईं। मेरी यह पंक्तियाँ उन्हीं को समर्पित हैं।)

मेरे जीवन का रंग थीं तुम
मेरे अंधकार में गुनगुनी धूप थीं तुम
मेरे दिल की हर धड़कन थीं तुम
मेरी हर मुस्कान का एहसास थीं तुम
अब न जाने कैसा बेरंग हो गया जीवन है
तुम्हारा एहसास बस साथ रहता है
आंख भर आती है
लगता है तुम आज भी मुझे पुकारती हो
तुम्हें गले न लगा पाने की टीस रुला देती है
कैसे याद न करूं – जब हर पल तुम्हारे नाम लिख दिया था
अब हर पल बस तुम ही याद आती हो

तुम खुश होती थीं – लगता था दुनिया जीत ली मैंने
तुम जब उदास होती थीं – लगता था दुनिया से लड़ लूं मैं
मैं गुस्सा करूं और तुम्हारी प्यारी सी मुस्कुराहट
पल भर में मेरे गुस्से को छू-मंतर कर देती
याद हैं वो दिन भी जब लोग हमें देख कर जल करते थे
परछाईं है अपनी माँ की ये कहा करते थे
और तुम आज भी मेरा हाथ थामे खड़ी हो – यह मेरी अंतरात्मा जानती है
जब भी बात तुम्हारी हुई – देखा है मैंने स्वयं को अपनी हदें पार करते हुए
तुम्हारे साथ के लिए – अपनी क्षमता से ऊपर जाते हुए

प्रेम की जब भी बात आई – तुम्हारी ही बस याद आई
मेरी खुशी का तो एक ही पता है – तुम्हारे साथ ही लापता है
यूँ प्रेम से अपना नाम सुनने को तरस गई हूं
हो सके तो एक बार और – स्वप्न में ही सही – पुकार लो ना मुझे

जिस तरह तुम हमेशा समझदारी दिखातीं
मुझे हमेशा एक सीख मिल जाती
सही – गलत का पाठ भी तुमने ही पढ़ाया
और उसके लिए लड़ना भी तुमने ही सिखाया

सोचती हूं तारीफों से पन्ने भर दूँ
फिर सोचती हूं शुरू कहां से करूं
कविता लिखने बैठी हूं –
मैं क्या कविता लिखूं?
जब कविता ने ही मुझे लिखा हो..
जब कविता ने ही मुझे लिखा हो..

~ वेदांशी विजयवर्गीय,
9754991472, Shrishrienterprises60@gmail.com

1 Like · 153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौन संवाद
मौन संवाद
Ramswaroop Dinkar
मैं तो महज आग हूँ
मैं तो महज आग हूँ
VINOD CHAUHAN
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
आदमी का मानसिक तनाव  इग्नोर किया जाता हैं और उसको ज्यादा तवज
आदमी का मानसिक तनाव इग्नोर किया जाता हैं और उसको ज्यादा तवज
पूर्वार्थ
अगर, आप सही है
अगर, आप सही है
Bhupendra Rawat
*भागे दुनिया हर कहीं, गली देस परदेस (कुंडलिया)*
*भागे दुनिया हर कहीं, गली देस परदेस (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?
#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
नादान पक्षी
नादान पक्षी
Neeraj Agarwal
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बहुत खूबसूरत सुबह हो गई है।
बहुत खूबसूरत सुबह हो गई है।
surenderpal vaidya
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
जब किसी कार्य के लिए कदम आगे बढ़ाने से पूर्व ही आप अपने पक्ष
Paras Nath Jha
ज़रा मुस्क़ुरा दो
ज़रा मुस्क़ुरा दो
आर.एस. 'प्रीतम'
2410.पूर्णिका
2410.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर  टूटा है
हाय री गरीबी कैसी मेरा घर टूटा है
कृष्णकांत गुर्जर
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
बस मुझे महसूस करे
बस मुझे महसूस करे
Pratibha Pandey
सीखने की भूख
सीखने की भूख
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
वैश्विक जलवायु परिवर्तन और मानव जीवन पर इसका प्रभाव
Shyam Sundar Subramanian
तुम्हारे  रंग  में  हम  खुद  को  रंग  डालेंगे
तुम्हारे रंग में हम खुद को रंग डालेंगे
shabina. Naaz
तो मेरे साथ चलो।
तो मेरे साथ चलो।
Manisha Manjari
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
Devesh Bharadwaj
💐अज्ञात के प्रति-111💐
💐अज्ञात के प्रति-111💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
■ सपनों में आ कर ■
■ सपनों में आ कर ■
*Author प्रणय प्रभात*
"आभास " हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
जिन्दगी के रोजमर्रे की रफ़्तार में हम इतने खो गए हैं की कभी
Sukoon
करो पढ़ाई
करो पढ़ाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यादगार
यादगार
Bodhisatva kastooriya
सास खोल देहली फाइल
सास खोल देहली फाइल
नूरफातिमा खातून नूरी
ज़िन्दगी की राह
ज़िन्दगी की राह
Sidhartha Mishra
Loading...