Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

💐Prodigy Love-16💐

Oh Dear!
The way is going towards you.
It is speaking about you.
The Way says “Who are you?”
I said,”I am you”
Oh Dear!
Nothing is decent without you.
Flower is saying about you.
They are withering without you.
Oh Dear!
Flower was on that way.
Both are gazing You Dear.
They are giving me Cheer.
Oh! My dear,My dear.
©® Abhishek Parashar “Aanand”

213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"मास्टर कौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम गर मुझे चाहती
तुम गर मुझे चाहती
Lekh Raj Chauhan
कबूतर इस जमाने में कहां अब पाले जाते हैं
कबूतर इस जमाने में कहां अब पाले जाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
दुनिया की ज़िंदगी भी
दुनिया की ज़िंदगी भी
shabina. Naaz
रंग रंगीली होली आई
रंग रंगीली होली आई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
Dr Pranav Gautam
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
तेरे आँखों मे पढ़े है बहुत से पन्ने मैंने
Rohit yadav
नानी का गांव
नानी का गांव
साहित्य गौरव
सोने के पिंजरे से कहीं लाख़ बेहतर,
सोने के पिंजरे से कहीं लाख़ बेहतर,
Monika Verma
प्रेम में डूबे रहो
प्रेम में डूबे रहो
Sangeeta Beniwal
23/08.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/08.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
इंसान और कुता
इंसान और कुता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
रामबाण
रामबाण
Pratibha Pandey
ये  दुनियाँ है  बाबुल का घर
ये दुनियाँ है बाबुल का घर
Sushmita Singh
चन्द फ़ितरती दोहे
चन्द फ़ितरती दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🌷🌷  *
🌷🌷 *"स्कंदमाता"*🌷🌷
Shashi kala vyas
मुक्तक
मुक्तक
Suryakant Dwivedi
औरतें नदी की तरह होतीं हैं। दो किनारों के बीच बहतीं हुईं। कि
औरतें नदी की तरह होतीं हैं। दो किनारों के बीच बहतीं हुईं। कि
पूर्वार्थ
तू है तो फिर क्या कमी है
तू है तो फिर क्या कमी है
Surinder blackpen
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नील गगन
नील गगन
नवीन जोशी 'नवल'
■ मुक्तक।
■ मुक्तक।
*प्रणय प्रभात*
तु आदमी मैं औरत
तु आदमी मैं औरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम्हारा स्पर्श
तुम्हारा स्पर्श
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Awadhesh Singh
असर
असर
Shyam Sundar Subramanian
मन
मन
Ajay Mishra
कविता
कविता
Mahendra Narayan
कॉलेज वाला प्यार
कॉलेज वाला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...