Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2023 · 1 min read

💐Prodigy Love-36💐

Oh dear!
If we say frivolous ourself in true love.
Really,Nothing is hyperbole.
Because we have not touched the threshold of true love.
Significantly,we are yet trying for this.
We will do our best.
In nature,everything has a spectacular glance.
But,do we have it?
Yes,we have.
But,let awake this.
It is not easy.
But,we will make it easy by our internal strength.
For this,we are to grow our perceiving power.
We shall stand to see, to know all our puerile deed.
And to recover.
Yes,this is the journey.
Here,we need Love in the form of reverence.
Reverence will accept us.
Happily.
She will dare it with the power of Love.
Love is not suffice.
It completes it,s strength with true in prefix.
True Love.
©® ABHISHEK PARASHAR “AANAND”

183 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
ख्वाब को ख़ाक होने में वक्त नही लगता...!
Aarti sirsat
2504.पूर्णिका
2504.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
पूर्वार्थ
ईश्वर से ...
ईश्वर से ...
Sangeeta Beniwal
शादाब रखेंगे
शादाब रखेंगे
Neelam Sharma
अल्फाज़
अल्फाज़
हिमांशु Kulshrestha
सच तो बस
सच तो बस
Neeraj Agarwal
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
देश के दुश्मन सिर्फ बॉर्डर पर ही नहीं साहब,
राजेश बन्छोर
"सीख"
Dr. Kishan tandon kranti
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
दिमाग नहीं बस तकल्लुफ चाहिए
Pankaj Sen
ऋतुराज
ऋतुराज
Santosh kumar Miri
मजदूरों के साथ
मजदूरों के साथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*आओ चुपके से प्रभो, दो ऐसी सौगात (कुंडलिया)*
*आओ चुपके से प्रभो, दो ऐसी सौगात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सवाल जिंदगी के
सवाल जिंदगी के
Dr. Rajeev Jain
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
लक्ष्मी अग्रिम भाग में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गर्मी आई
गर्मी आई
Manu Vashistha
तुम्हारे प्रश्नों के कई
तुम्हारे प्रश्नों के कई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
हमेशा तेरी याद में
हमेशा तेरी याद में
Dr fauzia Naseem shad
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
ज़िंदगी के मर्म
ज़िंदगी के मर्म
Shyam Sundar Subramanian
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
Buddha Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
डॉ अरुण कुमार शास्त्री 👌💐👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
बटाए दर्द साथी का वो सच्चा मित्र होता है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
यारो ऐसी माॅं होती है, यारो वो ही माॅं होती है।
सत्य कुमार प्रेमी
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
काशी
काशी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
*देखो ऋतु आई वसंत*
*देखो ऋतु आई वसंत*
Dr. Priya Gupta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...