Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2023 · 1 min read

💐 Prodigy Love-13💐

Oh Dear!
My heart is not mine.It is your,s.
It,s feeling.It,s Joy.It,s Brave.
All are from you.
My heart is not mine.It is your,s.
What can you say that your heart is mine?
It will give me solace.
Suffice for my life.
Please say for a while.
As false.But it will give me enjoy, peace.
Let say this.
I am seeing your beautiful face.
©® Abhishek Parashar “Aanand”

147 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का
मुझे इंतजार है , इंतजार खत्म होने का
Karuna Goswami
मेरे लिए
मेरे लिए
Shweta Soni
रिश्ता और ज़िद्द दोनों में ज़मीन आसमान का फ़र्क़ है, इसलिए ज
रिश्ता और ज़िद्द दोनों में ज़मीन आसमान का फ़र्क़ है, इसलिए ज
Anand Kumar
वर दो हमें हे शारदा, हो  सर्वदा  शुभ  भावना    (सरस्वती वंदन
वर दो हमें हे शारदा, हो सर्वदा शुभ भावना (सरस्वती वंदन
Ravi Prakash
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
बसंत हो
बसंत हो
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सिलसिले
सिलसिले
Dr. Kishan tandon kranti
हिन्दी दोहा बिषय-चरित्र
हिन्दी दोहा बिषय-चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ख़ुश रहना है
ख़ुश रहना है
Monika Arora
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फितरत
फितरत
Akshay patel
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बहुत खुश था
बहुत खुश था
VINOD CHAUHAN
संदेश
संदेश
Shyam Sundar Subramanian
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*फिर तेरी याद आई दिल रोया है मेरा*
*फिर तेरी याद आई दिल रोया है मेरा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चाह नहीं मुझे , बनकर मैं नेता - व्यंग्य
चाह नहीं मुझे , बनकर मैं नेता - व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सकारात्मकता
सकारात्मकता
Sangeeta Beniwal
अब कहने को कुछ नहीं,
अब कहने को कुछ नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/114.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
आज जो कल ना रहेगा
आज जो कल ना रहेगा
Ramswaroop Dinkar
शिव की महिमा
शिव की महिमा
Praveen Sain
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
12. घर का दरवाज़ा
12. घर का दरवाज़ा
Rajeev Dutta
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
सोना बोलो है कहाँ, बोला मुझसे चोर।
आर.एस. 'प्रीतम'
#कविता-
#कविता-
*प्रणय प्रभात*
— कैसा बुजुर्ग —
— कैसा बुजुर्ग —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
Neelam Sharma
मन में उतर कर मन से उतर गए
मन में उतर कर मन से उतर गए
ruby kumari
Loading...