Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2023 · 1 min read

💐Prodigy Love-26💐

Oh Dear!
What are you listening me?
We should create a dialogue with our souls.
Then,Souls can’t refrain from this.
However,we should nurture this message with our souls.
It is not absurd.it is mysterious.
But,it’s mystery will control very slowly.
For this,we should know it’s language by our experience.
Results will at their wits end from it.
Really,This will happen spontaneous.
But,we wait for this.
Because,all this is before us.
It is perpetual.
Our love is perpetual.
It is,which never dies.
Let insight in all with this love.

©® Abhishek Parashar “Aanand”

Language: English
81 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
जाने क्यूँ उसको सोचकर -
जाने क्यूँ उसको सोचकर -"गुप्तरत्न" भावनाओं के समन्दर में एहसास जो दिल को छु जाएँ
गुप्तरत्न
" चलन "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कुछ तो खास है उसमें।
कुछ तो खास है उसमें।
Taj Mohammad
■ आज का विचार-
■ आज का विचार-
*Author प्रणय प्रभात*
कभी मिलो...!!!
कभी मिलो...!!!
Kanchan Khanna
भूखे पेट न सोए कोई ।
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
52 बुद्धों का दिल
52 बुद्धों का दिल
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
कर्तव्यपथ
कर्तव्यपथ
जगदीश शर्मा सहज
पोथी- पुस्तक
पोथी- पुस्तक
Dr Nisha nandini Bhartiya
शहनाइयों में
शहनाइयों में
Dr. Sunita Singh
💐प्रेम कौतुक-239💐
💐प्रेम कौतुक-239💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहमुकरी
कहमुकरी
डॉ.सीमा अग्रवाल
मातृ रूप
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
हिंदू धर्म की यात्रा
हिंदू धर्म की यात्रा
Shekhar Chandra Mitra
जीने की तमन्ना में
जीने की तमन्ना में
Satish Srijan
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
Gairo ko sawarne me khuch aise
Gairo ko sawarne me khuch aise
Sakshi Tripathi
मन की पीड़ा
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
आत्मीय मुलाकात -
आत्मीय मुलाकात -
Seema gupta,Alwar
प्यार के सिलसिले
प्यार के सिलसिले
Basant Bhagwan Roy
ये ज़िंदगी क्या सँवर रही….
ये ज़िंदगी क्या सँवर रही….
Rekha Drolia
#करना है, मतदान          हमको#
#करना है, मतदान हमको#
Dushyant Kumar
मुक्तक
मुक्तक
Dr. Girish Chandra Agarwal
आत्मा शरीर और मन
आत्मा शरीर और मन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी मुस्कान भी, अब नागवार है लगे उनको,
मेरी मुस्कान भी, अब नागवार है लगे उनको,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अब इस मुकाम पर आकर
अब इस मुकाम पर आकर
shabina. Naaz
"बढ़"
Dr. Kishan tandon kranti
*नेताजी के सिर्फ समय की, कीमत कुछ होती है (हास्य-व्यंग्य गीत
*नेताजी के सिर्फ समय की, कीमत कुछ होती है (हास्य-व्यंग्य गीत
Ravi Prakash
दिल  धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
दिल धड़कने लगा जब तुम्हारे लिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
दूर मजदूर
दूर मजदूर
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
Loading...