Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

New light emerges from the depths of experiences, – Desert Fellow Rakesh Yadav

नयी उम्मीदों की रौशनी प्रकट होती है। सीमाओं को तोड़कर, विश्वास की पराकाष्ठा पार की जाती है, जिससे आत्मविश्वास मजबूत होता है। बदलावकारी स्पेस में नए सपने राहों में खिलते हैं, जो संघर्षों के बावजूद अग्रसर होते हैं। सत्ता की कठिनाईयों से भी जीवन की लहरें मिलती हैं, जो मनोबल को बढ़ाती हैं। समानुभूति की बातों में छुपी अनगिनत खुशियाँ होती हैं, जब हम दर्दों के साथ दूसरों के दुःखों को समझते हैं और उन्हें सहानुभूति दिखाते हैं। यह शेर मनुष्य की अंतरात्मा के गहरे भावनाओं को उजागर करता है और उसकी नयी दिशाओं की प्रेरणा देता है।

Desert Fellow Rakesh Yadav

1 Like · 204 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"वो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
Atul "Krishn"
■ आज का शेर...।
■ आज का शेर...।
*Author प्रणय प्रभात*
आसमान
आसमान
Dhirendra Singh
" चुस्की चाय की संग बारिश की फुहार
Dr Meenu Poonia
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
कवि रमेशराज
हिंदी मेरी माँ
हिंदी मेरी माँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
2398.पूर्णिका
2398.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रेम उतना ही करो जिसमे हृदय खुश रहे
प्रेम उतना ही करो जिसमे हृदय खुश रहे
पूर्वार्थ
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
विनम्रता, सादगी और सरलता उनके व्यक्तित्व के आकर्षण थे। किसान
Shravan singh
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
Dr Manju Saini
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
जुल्फें तुम्हारी फ़िर से सवारना चाहता हूँ
The_dk_poetry
ईश ......
ईश ......
sushil sarna
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
Buddha Prakash
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
हर बार बीमारी ही वजह नही होती
ruby kumari
क्या बताऍं शुगर हो गई(  हास्य व्यंग्य )
क्या बताऍं शुगर हो गई( हास्य व्यंग्य )
Ravi Prakash
💐 Prodigy Love-9💐
💐 Prodigy Love-9💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विचार
विचार
Godambari Negi
तुमने देखा ही नहीं
तुमने देखा ही नहीं
Surinder blackpen
उदास नहीं हूं
उदास नहीं हूं
shabina. Naaz
फर्श पर हम चलते हैं
फर्श पर हम चलते हैं
Neeraj Agarwal
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्रेम - एक लेख
प्रेम - एक लेख
बदनाम बनारसी
मौन धृतराष्ट्र बन कर खड़े हो
मौन धृतराष्ट्र बन कर खड़े हो
DrLakshman Jha Parimal
"शेष पृष्ठा
Paramita Sarangi
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
" उज़्र " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
जीवन एक मैराथन है ।
जीवन एक मैराथन है ।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...