Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2023 · 1 min read

Mukar jate ho , apne wade se

Mukar jate ho , apne wade se
Palat jate ho , majbut irado se
Chhod jate ho aasu jamane ke
Bhar jate ho sitam har bahane se

1 Like · 65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी कलम
मेरी कलम
Dr.Priya Soni Khare
गाओ शुभ मंगल गीत
गाओ शुभ मंगल गीत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रेम
प्रेम
Ranjana Verma
खुद की तलाश में मन
खुद की तलाश में मन
Surinder blackpen
लड्डू गोपाल की पीड़ा
लड्डू गोपाल की पीड़ा
Satish Srijan
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
कभी उगता हुआ तारा रोशनी बांट लेता है
कभी उगता हुआ तारा रोशनी बांट लेता है
कवि दीपक बवेजा
"यह कैसा दौर?"
Dr. Kishan tandon kranti
'मजदूर'
'मजदूर'
Godambari Negi
2229.
2229.
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-520💐
💐प्रेम कौतुक-520💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भूरा और कालू
भूरा और कालू
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हायकू
हायकू
Ajay Chakwate *अजेय*
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
मुझे मिले हैं जो रहमत उसी की वो जाने।
सत्य कुमार प्रेमी
गरमी लाई छिपकली, छत पर दीखी आज (कुंडलिया)
गरमी लाई छिपकली, छत पर दीखी आज (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Today i am thinker
Today i am thinker
Ms.Ankit Halke jha
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
तू ही मेरी लाड़ली
तू ही मेरी लाड़ली
gurudeenverma198
जो हर पल याद आएगा
जो हर पल याद आएगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
त्याग करने वाला
त्याग करने वाला
Buddha Prakash
पग बढ़ाते चलो
पग बढ़ाते चलो
surenderpal vaidya
जनम-जनम के साथ
जनम-जनम के साथ
Shekhar Chandra Mitra
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
अपना समझकर ही गहरे ज़ख्म दिखाये थे
'अशांत' शेखर
आए अवध में राम
आए अवध में राम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"जंगल की सैर"
पंकज कुमार कर्ण
नदियों का एहसान
नदियों का एहसान
RAKESH RAKESH
😢 #लघुकथा / #फ़रमान
😢 #लघुकथा / #फ़रमान
*Author प्रणय प्रभात*
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
जैसे ये घर महकाया है वैसे वो आँगन महकाना
Dr Archana Gupta
मेरा विषय साहित्य नहीं है
मेरा विषय साहित्य नहीं है
Ankita Patel
Loading...