Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

Muhabhat guljar h,

Muhabhat guljar h,
Fulo kato ka vyapar h .
Umido si tahniya h,
Hava ke jhoke hajar h 😍.
By sakshi😍

2 Likes · 146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
संकल्प का अभाव
संकल्प का अभाव
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
2821. *पूर्णिका*
2821. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक कहानी है, जो अधूरी है
एक कहानी है, जो अधूरी है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
Rj Anand Prajapati
ईमानदार  बनना
ईमानदार बनना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
कैसे देखनी है...?!
कैसे देखनी है...?!
Srishty Bansal
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
Shashi kala vyas
*अनार*
*अनार*
Ravi Prakash
कहमुकरी (मुकरिया) छंद विधान (सउदाहरण)
कहमुकरी (मुकरिया) छंद विधान (सउदाहरण)
Subhash Singhai
नारी
नारी
Nitesh Shah
नन्ही परी
नन्ही परी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
बे-ख़ुद
बे-ख़ुद
Shyam Sundar Subramanian
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
प्यार का उपहार तुमको मिल गया है।
surenderpal vaidya
भारत बनाम इंडिया
भारत बनाम इंडिया
Harminder Kaur
कत्ल खुलेआम
कत्ल खुलेआम
Diwakar Mahto
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Me and My Yoga Mat!
Me and My Yoga Mat!
R. H. SRIDEVI
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
बैठे-बैठे यूहीं ख्याल आ गया,
Sonam Pundir
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
खुदा किसी को किसी पर फ़िदा ना करें
$úDhÁ MãÚ₹Yá
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
Shweta Soni
"गरीबों की दिवाली"
Yogendra Chaturwedi
गांधीजी का भारत
गांधीजी का भारत
विजय कुमार अग्रवाल
"भीमसार"
Dushyant Kumar
#एक_शेर
#एक_शेर
*Author प्रणय प्रभात*
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
Sanjay ' शून्य'
प्रकृति
प्रकृति
Mangilal 713
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...