Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2023 · 1 min read

Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,

Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Maine uski jarurto ko puri krne ke liye,
Pal pal usko mard ke samne jhukte dekha hai.
Maine dekha hai apni khahisho ko kaise marti h wo,
Maine har roj paise ke liye pati patni ko
Jhagadte dekha hai.
Maine dard ko khanjar bante dekha hai,
Maine har sawere ko pyar ke liye taraste dekha hai.
Ye bukh nhi h nari ke abhiman ki
Ye uske swabhiman ki guhar hai
Jisse har gali chaurahe par maine
Uske apno ke hatho kuchalte dekha hai.

1 Comment · 417 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हरि का घर मेरा घर है
हरि का घर मेरा घर है
Vandna thakur
बचपन का प्रेम
बचपन का प्रेम
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
खंडहर
खंडहर
Tarkeshwari 'sudhi'
नहीं आती कुछ भी समझ में तेरी कहानी जिंदगी
नहीं आती कुछ भी समझ में तेरी कहानी जिंदगी
gurudeenverma198
2521.पूर्णिका
2521.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ आज का विचार...।।
■ आज का विचार...।।
*प्रणय प्रभात*
शुभकामना संदेश
शुभकामना संदेश
Rajni kapoor
"कथा" - व्यथा की लिखना - मुश्किल है
Atul "Krishn"
जुग जुग बाढ़य यें हवात
जुग जुग बाढ़य यें हवात
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कहानी ....
कहानी ....
sushil sarna
जय अयोध्या धाम की
जय अयोध्या धाम की
Arvind trivedi
आवारगी
आवारगी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
পৃথিবী
পৃথিবী
Otteri Selvakumar
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
हर प्रेम कहानी का यही अंत होता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"प्रेम"
शेखर सिंह
जीत कहां ऐसे मिलती है।
जीत कहां ऐसे मिलती है।
नेताम आर सी
*नववर्ष*
*नववर्ष*
Dr. Priya Gupta
प्यार टूटे तो टूटने दो ,बस हौंसला नहीं टूटना चाहिए
प्यार टूटे तो टूटने दो ,बस हौंसला नहीं टूटना चाहिए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
चंचल मन
चंचल मन
उमेश बैरवा
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
"ऐसा क्यों होता है?"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
खाने में हल्की रही, मधुर मूँग की दाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
हार मैं मानू नहीं
हार मैं मानू नहीं
Anamika Tiwari 'annpurna '
AGRICULTURE COACHING CHANDIGARH
AGRICULTURE COACHING CHANDIGARH
★ IPS KAMAL THAKUR ★
हम हंसना भूल गए हैं (कविता)
हम हंसना भूल गए हैं (कविता)
Indu Singh
ख़ामोश हर ज़ुबाँ पर
ख़ामोश हर ज़ुबाँ पर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...