Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 1 min read

“LOVELY FRIEND”

DrLakshman Jha Parimal
=========================
Respect, love,
hospitality
Don’t arise at random
Who resides
in my heart
Deserves affection seldom
Friendship is
not built-in
A couple of the day
The breach
of trust gives
Jolt and bury in the bay
Bed intention
in relation
Appears on the face all time
Hide the matter
with him
Creates the ground for crime
It could be
in vogue in
Digital superstitious world
It could not be
possible to
Compare with pure gold
Once we
become friend
Regards, respect each other
Consider them
family member
Love them like own brother
=====================
DrLakshman Jha Parimal
Sound Health Clinic
S.P.College Road
Dumka
Jharkhand
INDIA
12.11.2022

Language: English
Tag: Poem
121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो एक विभा..
वो एक विभा..
Parvat Singh Rajput
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
अरशद रसूल बदायूंनी
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
होते वो जो हमारे पास ,
होते वो जो हमारे पास ,
श्याम सिंह बिष्ट
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"पुतला"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रबुद्ध प्रणेता अटल जी
प्रबुद्ध प्रणेता अटल जी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Tlash
Tlash
Swami Ganganiya
23/170.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/170.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये न पूछ के क़ीमत कितनी है
ये न पूछ के क़ीमत कितनी है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शबे- फित्ना
शबे- फित्ना
मनोज कुमार
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
Harminder Kaur
🙏🙏सुप्रभात जय माता दी 🙏🙏
🙏🙏सुप्रभात जय माता दी 🙏🙏
Er.Navaneet R Shandily
पुकार
पुकार
Manu Vashistha
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
ग़ज़ल - ख़्वाब मेरा
ग़ज़ल - ख़्वाब मेरा
Mahendra Narayan
*तुम अगर साथ होते*
*तुम अगर साथ होते*
Shashi kala vyas
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
ग़ज़ल/नज़्म - वजूद-ए-हुस्न को जानने की मैंने पूरी-पूरी तैयारी की
अनिल कुमार
वाणी से उबल रहा पाणि💪
वाणी से उबल रहा पाणि💪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खुला आसमान
खुला आसमान
Surinder blackpen
वक्त सा गुजर गया है।
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
याद
याद
Kanchan Khanna
रोहित एवं सौम्या के विवाह पर सेहरा (विवाह गीत)
रोहित एवं सौम्या के विवाह पर सेहरा (विवाह गीत)
Ravi Prakash
Armano me sajaya rakha jisse,
Armano me sajaya rakha jisse,
Sakshi Tripathi
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
जिस प्रकार प्रथ्वी का एक अंश अँधेरे में रहकर आँखें मूँदे हुए
Sukoon
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
अपनी गलती से कुछ नहीं सीखना
Paras Nath Jha
जब एक ज़िंदगी है
जब एक ज़िंदगी है
Dr fauzia Naseem shad
Loading...