Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

Love is a physical modern time.

Love is a physical modern time.
But nothing in feelings and believe.

91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उस रावण को मारो ना
उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
अकेले तय होंगी मंजिले, मुसीबत में सब साथ छोड़ जाते हैं।
अकेले तय होंगी मंजिले, मुसीबत में सब साथ छोड़ जाते हैं।
पूर्वार्थ
पेट लव्हर
पेट लव्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसाँ...नदियों को खाकर वो फूला नहीं समाता है
अनिल कुमार
2535.पूर्णिका
2535.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*लज्जा*
*लज्जा*
sudhir kumar
इतनी बिखर जाती है,
इतनी बिखर जाती है,
शेखर सिंह
Friend
Friend
Saraswati Bajpai
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
Dr Archana Gupta
😢आतंकी हमला😢
😢आतंकी हमला😢
*प्रणय प्रभात*
हो रही बरसात झमाझम....
हो रही बरसात झमाझम....
डॉ. दीपक मेवाती
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
Shinde Poonam
विधवा
विधवा
Acharya Rama Nand Mandal
दस रुपए की कीमत तुम क्या जानोगे
दस रुपए की कीमत तुम क्या जानोगे
Shweta Soni
वाराणसी की गलियां
वाराणसी की गलियां
PRATIK JANGID
बादल (बाल कविता)
बादल (बाल कविता)
Ravi Prakash
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
मंगलमय हो नववर्ष सखे आ रहे अवध में रघुराई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
बादल बरसे दो घड़ी, उमड़े भाव हजार।
Suryakant Dwivedi
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mukesh Kumar Sonkar
रिश्ता ख़ामोशियों का
रिश्ता ख़ामोशियों का
Dr fauzia Naseem shad
विचार , हिंदी शायरी
विचार , हिंदी शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कल हमारे साथ जो थे
कल हमारे साथ जो थे
ruby kumari
यही तो मजा है
यही तो मजा है
Otteri Selvakumar
आखों में नमी की कमी नहीं
आखों में नमी की कमी नहीं
goutam shaw
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
काल भैरव की उत्पत्ति के पीछे एक पौराणिक कथा भी मिलती है. कहा
Shashi kala vyas
एक बात तो,पक्की होती है मेरी,
एक बात तो,पक्की होती है मेरी,
Dr. Man Mohan Krishna
"श्यामपट"
Dr. Kishan tandon kranti
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
हम भी तो चाहते हैं, तुम्हें देखना खुश
gurudeenverma198
Loading...