Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Sep 2016 · 1 min read

कविता

नज़म
प्यारे बच्चे

अल्लाह को मे सजदा करूंगा
सुबह शाम माँ-बाप के लिए दुआ करूँगा

आधी – तुफानो से ना मे डरूंगा
मुश्किल – परेशानी का मुकाबला करूँगा

मशजिद मे जा जा के कलमा पडूंगा
कुरान मजीद को मे याद करूँगां

अड़ोस – पड़ोस मे मोहब्बत फेलाऊगां
इस्लाम को सब के दिल मे बसाऊंग़ा

अशरफ लोगो को उचाई पे ले जाऊंगा
बेताबी का आलम में बंद करूँगा

इताअत करने वालो की खुवाईश पूरी करूँगा
उस्ताद की हमेशा मे सेवा करूँगा

इकराम गली – मुहल्ले मे सब का करूँगा
ज़िद दी लोगो को घर जाके मनाऊंगा

किसी को कभी गलत रास्ता न दिखाउगा
सब को सही नेक राह पे चलाऊगां

गरीब आदमी को छोटा ना समझुगां
सब को बराबर में हक़ दूगां

लड़ाई – झगड़ा में ख़त्म करूगां
इन्सान को प्यार करना सीखाऊगां

आपस में भेद भाव ना करुगां
घर में सब से प्यार करुगां

इंसानियत को आगे बड़ाऊगां
गलत आदमी को में रूकोगां

पुरे देश को गीयानी बनाऊगां
इल्म में हर घर में ले जाऊगां

राजा कुमार
09810190869
RAJAKUMAR869@YAHOO.COM

Language: Hindi
1 Comment · 386 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ मुक्तक / एक आह्वान...
■ मुक्तक / एक आह्वान...
*Author प्रणय प्रभात*
NUMB
NUMB
Vedha Singh
मैं खुश हूँ बिन कार
मैं खुश हूँ बिन कार
Satish Srijan
* किसे बताएं *
* किसे बताएं *
surenderpal vaidya
तुम्हारी वजह से
तुम्हारी वजह से
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नारी सम्मान
नारी सम्मान
Sanjay ' शून्य'
चुनावी जुमला
चुनावी जुमला
Shekhar Chandra Mitra
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
Dr. Narendra Valmiki
तू बेमिसाल है
तू बेमिसाल है
shabina. Naaz
जो तुझे अच्छा लगे।
जो तुझे अच्छा लगे।
Taj Mohammad
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2454.पूर्णिका
2454.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुश्किलों से क्या
मुश्किलों से क्या
Dr fauzia Naseem shad
चलती जग में लेखनी, करती रही कमाल(कुंडलिया)
चलती जग में लेखनी, करती रही कमाल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
★आईने में वो शख्स★
★आईने में वो शख्स★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
जीवन की जर्जर कश्ती है,तुम दरिया हो पार लगाओ...
जीवन की जर्जर कश्ती है,तुम दरिया हो पार लगाओ...
दीपक झा रुद्रा
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
bhandari lokesh
घुमंतू की कविता #1
घुमंतू की कविता #1
Rajeev Dutta
International  Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
-- बड़ा अभिमानी रे तू --
-- बड़ा अभिमानी रे तू --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
तरन्नुम में अल्फ़ाज़ सजते सजाते
तरन्नुम में अल्फ़ाज़ सजते सजाते
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुझे मरने की वजह दो
मुझे मरने की वजह दो
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
"गंगा माँ बड़ी पावनी"
Ekta chitrangini
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विश्व कप लाना फिर एक बार, अग्रिम तुम्हें बधाई है
विश्व कप लाना फिर एक बार, अग्रिम तुम्हें बधाई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नियम
नियम
Ajay Mishra
Loading...