Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Mar 2023 · 1 min read

Kash hum marj ki dava ban sakte,

Kash hum marj ki dava ban sakte,
Unke jakhmo ki .
Kash ham jariya bann skte,
Unke muskurane ki .
😍 by sakshi

2 Likes · 67 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
I don't care for either person like or dislikes me
I don't care for either person like or dislikes me
Ankita Patel
Tum makhmal me palte ho ,
Tum makhmal me palte ho ,
Sakshi Tripathi
मेरी बेटियाँ और उनके आँसू
मेरी बेटियाँ और उनके आँसू
DESH RAJ
तुमने देखा ही नहीं
तुमने देखा ही नहीं
Surinder blackpen
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
Vishal babu (vishu)
आपसी बैर मिटा रहे हैं क्या ?
आपसी बैर मिटा रहे हैं क्या ?
Buddha Prakash
याद
याद
Sushil chauhan
अब आये हो तो वो बारिश भी साथ लाना, जी भरकर रो कर, जिससे है हमें उबर जाना।
अब आये हो तो वो बारिश भी साथ लाना, जी भरकर रो कर, जिससे है हमें उबर जाना।
Manisha Manjari
★क़त्ल ★
★क़त्ल ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
कनि बुझू तऽ जानब..?
कनि बुझू तऽ जानब..?
मनोज कर्ण
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
कवि दीपक बवेजा
तेरी यादों की
तेरी यादों की
Dr fauzia Naseem shad
इंकलाब की मशाल
इंकलाब की मशाल
Shekhar Chandra Mitra
एक दिवा रोएगी दुनिया
एक दिवा रोएगी दुनिया
AMRESH KUMAR VERMA
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
Rakesh Bahanwal
वचन दिवस
वचन दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
महाशिव रात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ
महाशिव रात्रि की हार्दिक शुभकामनाएँ
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
कोई भी रंग उस पर क्या चढ़ेगा..!
कोई भी रंग उस पर क्या चढ़ेगा..!
Ranjana Verma
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
घुटने बदले दादी जी के( बाल कविता)
घुटने बदले दादी जी के( बाल कविता)
Ravi Prakash
"सुर्खियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
गेंदबाज़ी को
गेंदबाज़ी को
*Author प्रणय प्रभात*
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
“बेवफा तेरी दिल्लगी की दवा नही मिलती”
Basant Bhagwan Roy
💐अज्ञात के प्रति-71💐
💐अज्ञात के प्रति-71💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कितना सकून है इन , इंसानों  की कब्र पर आकर
कितना सकून है इन , इंसानों की कब्र पर आकर
श्याम सिंह बिष्ट
2289.पूर्णिका
2289.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जाति बनाम जातिवाद।
जाति बनाम जातिवाद।
Acharya Rama Nand Mandal
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
आर एस आघात
नववर्ष संदेश
नववर्ष संदेश
Shyam Sundar Subramanian
खुदा पर है यकीन।
खुदा पर है यकीन।
Taj Mohammad
Loading...